Friday, December 9, 2022
प्रांतीय वॉच

भाजपा किसानों का 15 साल में कितना कल्याण करी है, यह तो दुनिया देख रही है : आवेश मेमन

अक्कू रिजवी/ कांकेर। छत्तीसगढ़ के जाने-माने मुस्लिम नेता एवं प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के महामंत्री आवेश मेमन ने अपने प्रेस वक्तव्य में बताया है कि कांकेर में तथा अन्य स्थानों में भी 22 जनवरी को भाजपा द्वारा जिस जंगी प्रदर्शन का दावा किया गया था, वह एकदम फुसफुसा साबित हुआ, जिसमें कोई बड़ी रैली निकल नहीं पाई और गिरफ्तारी भी बहुत कम लोगों ने दी। शेष सभी औपचारिकता निभा कर अपने अपने घर चले गए। वास्तव में यह लोग किसानों के कल्याण की बात कितनी सोचते हैं या करते हैं,  इसका नमूना दिल्ली में 2 माह से देखा जा रहा है जिसे सारी दुनिया देख रही है कि किस प्रकार लाठी चला कर, आंसू गैस के गोले छोड़कर, ठंड में ठंडे पानी की बौछार कर तथा अपने चाटुकार चैनलों द्वारा किसानों को देश के गद्दार, खालिस्तानी, नक्सली, पाकिस्तान से फंड लेने वाले और न जाने क्या-क्या गालियां दी जा रही हैं। इतना होने पर भी किसान भाई चट्टान की तरह खड़े हुए हैं कि जब तक किसान विरोधी तीन काले कानून वापस नहीं होंगे ,हम भी घर वापस नहीं आएंगे । इस चट्टानी संकल्प के आगे भाजपा सरकार को वैसे ही झुकना पड़ेगा और नाक रगड़ना पड़ेगा जैसा कि 100 साल पहले किसानों के ही जबरदस्त आंदोलन ” पगड़ी संभाल जट्टा ” के आगे अंग्रेजों को झुकना पड़ा था और किसान विरोधी कानून रद्द करने पड़े थे। दिल्ली में अपने  दर्जनों साथियों  की मौत देखने के बाद भी शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे किसानों पर अत्याचार करने वाली भाजपा छत्तीसगढ़ में किसानों का समर्थन करने का नाटक कर रही है और किसानों को भूपेश सरकार के खिलाफ भड़का रही है जबकि निर्धारित तिथि से 10 दिन पहले ही भूपेश सरकार ने धान खरीदी का आज तक का नया रिकॉर्ड स्थापित कर दिया है और आगे भी खरीदेंगे। जबकि केंद्र की भाजपा सरकार राज्य सरकार  के हर कल्याणकारी काम में तरह तरह से अड़ंगा डालती है और धान खरीदी रोकने के लिए भी उसने बारदाना सप्लाई से लेकर फंड देने तक हर प्रकार का अड़ंगा लगा लगा कर छत्तीसगढ़ सरकार को परेशान किया है लेकिन यहां के समझदार किसान जानते हैं कि 15 साल तक भाजपा ने किस प्रकार उन्हें कभी धान का उचित मूल्य नहीं दिया और बोनस को भी हर बार चुनाव तक लटकाया। कितने वर्षों तक किसानों ने बोनस का नुकसान उठाया, यह भी अच्छी तरह जानते हैं जबकि भूपेश सरकार ने आते ही न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाया, किसानों का कर्जा माफ किया तथा बोनस भी दिलाया और आगे भी दिलाएंगे, क्योंकि राज्य सरकार के खजाने में भले ही केंद्र सरकार योगदान न करे फिर भी भूपेश जी का वचन है कि वे कर्ज लेकर भी किसानों की मदद करेंगे ही। जनता देख रही है कि छत्तीसगढ़ सरकार ने किसानों से किए गए हर वादे पूरे किए हैं और लगातार जनकल्याण की योजनाएं लागू करते जा रहे हैं। यहां की जनता अब ऐसी भाजपा के वादों पर कभी भरोसा नहीं करने वाली है जो जनता से वोट लेकर थोड़े से पूंजीपतियों उद्योगपतियों का ही भला करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *