प्रांतीय वॉच देश दुनिया वॉच

देश के 12 राज्यों में बढ़ी डिमांड,प्रोड्यूसर कम्पनी बनाकर ब्लैक और रेड राइस लगा रहे किसान

नवागढ़ ब्यूरो  (संजय महिलांग ) | जिले के एक युवा किसान ने जैविक खेती की राह अपनाकर न केवल फसल का रकबा बढ़ाया है बल्कि ब्लैक और रेड धान का बीज बनाकर दुनिया भर में फैला भी रहा है। धान उत्पादक जिला बेमेतरा के इस किसान ने कृषि को नई राह देने का प्रयास किया है।नगर पंचायत नवागढ़ के युवा किसान किशोर राजपूत ने ब्लैक और रेड राइस को बढ़ावा दिया है। इतना ही नहीं उन्होंने इसका बीज तैयार करने के लिए एक फार्मर प्रोड्यूसर कम्पनी भी बनाई हैं।जिसके प्रमाणित बीज को अन्य राज्य तक पहुँचा रहे हैं।देश के 12 राज्यों में इसके बीज डाक, कोरियर, ट्रांसपोर्ट के माध्यम से भेजें जा रहे हैं।ब्लैक और रेड राइस मधुमेह और अन्य बीमारियों में लाभकारी है।किसान सालाना 150 क्युटल से अधिक का उत्पादन ले रहा है और सलाना 4लाख रुपये का मुनाफा कमा रहे हैं |

युवा किसान किशोर कुमार राजपूत बताते हैं कि बेमेतरा जिले में न जाने कई उन्नत किस्में हैं जो अपनी सुगंध और स्वाद के लिए पहचानी जाती हैं। इन खास क़िस्मों में ब्लैक और रेड राइस भी अपनी जगह बना रहा है। अब किसान भी स्वाद में ताजगी लाने के साथ सेहत को सवारने औषधीय गुणों से भरपूर चावल तैयार करने वाली धान लगा रहे हैं।इनमें शुगर फ्री चावल के लिए ब्लैक राइस और रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले रेड राइस भी तैयार कर रहे हैं।

* सेहतमंद हैं ब्लैक और रेड राइस

किशोर राजपूत बताते हैं कि ब्लैक राइस शुगर(मधुमेह)की बीमारी में बहुत फायदेमंद है जबकि रेड राइस में विटामिन बी-12,आयरन और जिंक बहुतायत में पाया जाता है,जो कैंसर जैसी बीमारियों में भी कारगर है।हल्की प्रजाति के यह धान बेमेतरा जिले के वातावरण के अनुकूल है। बस्तर के आदिवासी इलाकों में आज भी ये अपनी जगह बनाए हुए हैं। अब इसे भारत सरकार भी बढ़ावा दे रही हैं।

 * लगातार बढ़ रही है बीज की माँग

किशोर कुमार राजपूत बताते हैं कि इस वर्ष बेमेतरा जिले के नवागढ़, बेरला,बिलासपुर,मुंगेली,जांजगीर चापा, वर्धा,नागपुर,महाराष्ट्र, गुजरात, पंजाब, उत्तराखंड, उत्तप्रदेश, केरल,कर्नाटक,पश्चिम बंगाल, असम, बिहार,मध्यप्रदेश, झारखंड जैसे राज्यों में ब्लैक और रेड राइस की डिमांड बढ़ी हैं। इन राज्यों के किसानों को विभिन्न माध्यमों से बीज भिजवाए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *