देश दुनिया वॉच

सुप्रीम कोर्ट के बाहर आत्मदाह करने वाली रेप पीड़िता की मौत, UP के सांसद-पुलिस अफसरों पर लगाए थे कई आरोप

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट के बाहर 16 अगस्त को आत्मदाह करने वाली कथित रेप पीड़िता की मंगलवार को मौत हो गई. रेप पीड़िता और उसके दोस्त ने सुप्रीम कोर्ट के बाहर खुद को आग लगाकर आत्महत्या की कोशिश की थी. गंभीर रूप से जख्मी होने के बाद पीड़िता के दोस्त की मौत 21 अगस्त को हो गई थी. वहीं दोनों ने मौत से पहले कोर्ट के बाहर आत्महत्या करने से पहले फेसबुक लाइव भी किया था. फेसबुक लाइव में पीड़िता और उसके दोस्त ने एसएसपी अमित पाठक, सीओ अमरेश सिंह, दरोगा संजय राय और उनके बेटे विवेक राय, पूर्व आईजी पर भी उत्पीड़न का आरोप लगाया था. पीड़िता का शरीर 70 फीसदी आत्महत्या की कोशिश के दौरान ही झुलस गया था. उसने फेसबुक पेज पर लाइव स्ट्रीमिंग शुरू की थी, इसी दौरान उसने खुदकुशी कर ली. लड़की ने पहले सांसद अतुल राय पर आरोप लगाए थे.

16 अगस्त को की थी आत्मदाह की कोशिश

पीड़िता ने यूपी के कई छोटे बड़े नेताओं और पुलिस अधिकारियों पर गंभीर आरोप लगाए थे. अपने दोस्त के साथ 16 अगस्त को ही दोनों ने गेट नंबर डी से अंदर घुसने की कोशिश की थी, लेकिन पर्याप्त आईडी के बिना अंदर जाने से उन्हें सुरक्षाकर्मियों ने रोक लिया था था. फिर दोनों ने सुप्रीम कोर्ट के बाहर आत्मदाह की कोशिश की थी.

अतुल राय पर लगाया था रेप का आरोप

बाद में हुए पड़ताल में यह बात सामने आई कि यह महिला वही है, जिसने सांसद अतुल राय पर आरोप लगाया था. वहीं साथ में जिस दूसरे शख्स ने आत्मदाह किया था वह इसी मामले में गवाह भी है. आत्महत्या के बाद दोनों को अस्पताल भेजा गया, जहां इलाज के कुछ दिनों बाद दोनों की मौत हो गई. सांसद अतुल राय पर रेप का आरोप लगाने वाले इस लड़की को कोर्ट ने भगोड़ा घोषित किया था. पीड़िता पर ही जालसाजी और हनी ट्रैप का आरोप भी लगाया गया है.

क्या है पूरा मामला?

अतुल राय घोसी से बसपा के सांसद हैं. 2019 लोकसभा चुनावों के दौरान ही उन पर रेप का आरोप लगा था. अतुल राय को जेल जाना पड़ा. हालांकि रेप के आरोपों के बाद भी वे चुनाव जीत गए थे. अतुल राय यूपी के नैनी जेल में बंद हैं. उन्हें जमानत नहीं मिली है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *