प्रांतीय वॉच

चलने के लिए सड़क नहीं, फिर भी स्कूल चले हम

  • ग्राम पंचायत करदा का मामला, ग्रामीणों ने जल्द ही सड़क बनाने की रखी मांग

कमलेश रजक/ मुंडा : आजादी के 75 साल बीत जाने के बाद भी नौनिहालों को स्कूल तक का सफर 1.5 किलोमीटर के दलदली रास्ते को पार करके जाना पड़े, तो सरकारी सिस्टम पर यकीनन गुस्सा आता है, लेकिन उससे भी ज्यादा तरस उन बच्चों पर आता है, जो रोजाना डरते सहमते हुए स्कूल तक पहुुंचते है। एक तरफ राज्य और केेन्द्र सरकार स्कूल चले अभियान के लिए करोड़ो रूपए खर्च कर रही है, वही दूसरी ओर बलौदाबाजार जनपद के ग्राम पंचायत करदा के प्राथमिक व मिडिल स्कूल के बच्चों को घुटनों भरी लतपथ कीचड़ और गंदगी के बीच से रोजाना स्कूल जाना उनकी मजबूरी बना हुआ है।

नौनिहाल कीचड़ भरे दलदल युक्त रास्ते होकर पहुंचते है स्कूल

बांधा पहुंच मार्ग की दूरी महज 1.5 किलोमीटर है वह भी काफी दलदल, करीब 100 नौनिहाल बच्चे और हाईस्कूल के छात्र-छात्राए इसी कच्चे मार्ग से होकर रोजाना स्कूल पहुंचते है। जिस कीचड़ के दलदल वाले रास्ते में कोई अपना पैर भी नहीं रखना चाहता, उसी रास्ते से होकर बचे रोजाना स्कूल तक का सफर तय करते है। दलदल वाला ये रास्ता छोटा-मोटा नही, बल्कि पूरे 1.5 किलोमीटर लंबा है।

कीचड़ की वजह से खराब हो जाती है किताबें
कई बार तो इन नौनिहालों को घुटने तक कीचड़ से होकर गुजरना पड़ता है। कभी किसी का पैर फिसलता है, तो कभी कोई पूरा का पूरा कीचड़ से सन जाता है। बच्चों की माने तो कई बार इनकों चोंट भी लगती है। यनिफार्म और काॅपी किताबे भी कीचड़ से सन जाती है।

आश्वासन के सिवा कुछ नहीं दिया गया
यंहा रहने वाले बच्चों के अभिभावक कलेक्टर से विधायक, मंत्रियों के दरवाजे तक ना जाने कितनी बार खटखटा चुके है, पर किसी ने भी आश्वासन से आगे इनके लिए कुछ नहीं किया। 2 वर्ष पहले करदा के पूर्व जनपद सदस्य फुलसाय साहू व ग्रामीण किरण बाई, पांचो बाई दुख्यिा बाई, रामकुंवर, यादव, सुखमति पैकरा, जलबाई साहू, निर्मला चेलक, नीरा साहू, नंदमति पटेल, संतरीन, हीरबाई रात्रे, दुकाला, अघन बाई, गोमती, शत्रुहन, ईश्वर प्रसाद, दुर्गा बाई, सुकवारा बाई, अमरौतीन बाई, ओमबाई, ऊमा, सहोदरा, भागवंतीन, जानकी, राधा, दुलारी बाई, रामजी, बहुर सिंह पैकरा, सुरीता बाई, सुरूजबाई सहित सैकड़ों महिला पुरूष जिला कलेक्टर में पहुंचकर अपनी स्थिति को बंया करते हुए बांधापारा सड़क मार्ग बनाने की मांग किये थे। जिनकी सुनवाई आज तक नहीं हो पाई है। मजबूरीवश ग्रामीण व छात्र-छात्राएं कीचड़ वाली मार्ग पर चलने को मजबूर है।

चारपाई में लिटाकर बड़ी मुश्किल से दलदल पार करते है ग्रामीण

गांव के इस मोहल्ले में करीब 50 घरों के लोग निवासरत है। जिन्हें भी इसी रास्ते से होकर आना-जाना पड़ता है। कीचड़ भरी मार्ग होने के चलते यंहा सरकारी सेवा एम्बुलेंस व महतारी एक्सप्रेस भी नहीं पहुंच पाते है। तीन चार ग्रामीणों का तबियत खराब होने पर समय पर अस्पाल नहीं पहुंच पाने की वजह से ग्रामीणों को मौत हो चूकी है। ग्रामीणों ने बताया कि यंहा अगर किसी का तबियत खराब हो जाता है तो उसे चारपाई में लिटाकर बड़ी मुश्किल से दलदल पारकर निकलते है।

हाईस्कूल के छात्र-छात्राएं भी इसी रास्ते से जाते है स्कूल

करदा में गांव के छात्र-छात्राओं को गांव में ही हाईस्कूल व हायर सेकेण्डरी की शिक्षा प्राप्त हो इसलिए शासन-प्रशासन के द्वारा हायर सेकेण्डरी भवन तो बना दिये है, लेकिन इस बांधा पहुंच मार्ग के आगे हायर सेकेण्डरी भवन बना है, उक्त मार्ग पर कीचड़ होने के चलते गांव के 10वी, 12वीं के विद्यार्थी मरदा व लवन हाईस्कूल पढ़ने जाने के लिए मजबूरीवश जाते है। वही, ग्रामीणों व किसानों को उक्त मार्ग से होकर खेत आना-जाना पड़ता है, जिन्हें भी काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है। उक्त मार्ग पर सीसी रोड नहीं होने के चलते हर ग्रामीण परेशान है।

क्या कहते है सरपंच

स्कूल पहुंच मार्ग रोड के लिए क्षेत्रीय विधायक व संसदीय सचिव शकुन्तला साहू को लिखित व मौखिक में अवगत कराया जा चूका है। प्रशासकीय स्वीकृति नहीं मिलने की वजह से उक्त रोड नहीं बन पाया है। फिलहाल लोगों के आने-जाने के लिए रास्ता सुखने पर बजरी गिराया जायेगा।
– महेश साहू, सरपंच, ग्राम पंचायत करदा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *