Friday, December 9, 2022
देश दुनिया वॉच

आखिर द्रौपदी मुर्मू ही क्यों, भाजपा ने मुर्मू को ही राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार क्यों बनाया? यहां जानें वजह

रायपुर। बीजेपी की अगुवाई में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) ने झारखंड की पूर्व राज्यपाल और ओडिशा से आने वालीं आदिवासी नेता द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवार बनाया है। यदि मुर्मू चुनाव जीतती हैं तो वह देश की पहली आदिवासी राष्ट्रपति होंगी। कई नामों पर चल रही चर्चा के बीच भाजपा ने मुर्मू को ही राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार क्यों बनाया? राजनीतिक जानकार भाजपा के इस दांव के पीछे राजनीतिक रणनीति तलाशने में जुटे हैं। माना जा रहा है कि भगवा दल ने मुर्मू के सहारे देश के कई राज्यों में बड़ी संख्या में रहने वाले आदिवासी समुदाय पर पकड़ को मजबूत करने का प्रयास किया है। इसी साल गुजरात में होने जा रहे विधानसभा चुनाव में भी पार्टी को इसका लाभ मिल सकता है।

दरअसल, गुजरात में आदिवासी मतदाता कई सीटों पर निर्णायक भूमिका निभाते हैं और यदि ये एकमुश्त किसी पार्टी की ओर रुख कर जाएं तो लगभग यह तय कर सकते हैं कि सत्ता किसके हाथ होगी। दशकों से भाजपा के गढ़ रहे गुजरात में आदिवासियों की ताकत को देखते हुए कांग्रेस और आम आदमी पार्टी भी पूरा जोर लगा रही है। ऐसे में एक आदिवासी महिला को देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद पर बिठाकर भाजपा आदिवासियों के सम्मान के रूप में पेश कर सकती है। पार्टी रणनीतिकारों को भरोसा है कि भाजपा को ओडिसा, झारखंड, गुजरात, मध्य प्रदेश, राजस्थान और महाराष्ट्र जैसे कई राज्यों में काफी फायदा हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *