प्रांतीय वॉच

नक्सली प्रवक्ता के बाद डिविजन कमेटी के सचिव ने बस्तर आईजी पर लगाया हवाई बमबारी का आरोप

बस्तर आईजी ने कहा नक्सलियों का आरोप निराधार
सुकमा।
 नक्सलियों के दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी के प्रवक्ता विकल्प ने 15 अप्रेल को प्रेस नोट जारी कर हवाई बमबारी करने का आरोप लगाए जाने के बाद एक बार फिर से नक्सलियों के दक्षिण बस्तर डिविजन कमेटी के सचिव विकास ने 18 अप्रेल को प्रेस नोट जारी कर केंद्र एवं राज्य सरकारों पर गंभीर आरोप लगाते हुए लिखा है कि हमारी पार्टी को 2022 तक उन्मूलन करने के नाम पर केंद्र व राज्य की कांग्रेस की सरकार मिलकर समाधान प्रहार -03 हमलों के तहत जनता पर युद्ध जारी है। इसके अंतर्गत विगत 14-15 की दरमियानी रात को पामेड़ और किस्टाराम के सरहदी इलाके बोट्टेम रासम एर्राम मेट्टागुड़म साकलेर मड़पादुलेड़ कन्नेमरका पोट्टेमडग़ु, बोत्तलंका गांवों एवं जंगलों को निशाना बनाकर रात 01.14 बजे से 01.50 बजे तक लगातार सैनिक ड्रोनों से 50 से अधिक बमबारी करने का आरोप लगाया गया है।
विज्ञप्ति में आगे लिखा गया है कि सतर्कता और सावधानी के कारण हमारे पीएलजीए बलों को इस बमबारी से कोई नुकसान नहीं हुआ है। नक्सल सचिव विकास ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के दिशा निर्देशन पर बस्तर आईजी सुंदरराज पी. के प्रत्यक्ष नेतृत्व में विगत महीने भर से इस हवाई हमले की तैयारी चलने का आरोप लगाया गया है। विकास ने प्रेस नोट में दावा किया है कि वर्तमान में भी दिन रात अलग-अलग प्रकार के ड्रोन सैनिक हेलिकॉप्टर लगातार गांवों जंगलों में मंडरा रहा है इसके चलते जनता में भय व दहशत का माहौल बना हुआ है। आदिवासी अपने रोजमर्रा के जरूरतों के लिए खेत खलिहानों में नहीं जा पा रहे हैं, महुआ बीनने जाना भी बाधित है इनकी जीवन जंगलों पर निर्भर होकर रहती है इसलिए अपने जीवनयापन को लेकर चिंतित होना बताया गया है।
विकास द्वारा लगाए आरोपों के जवाब में बस्तर आईजी पी सुंदरराज ने कहा कि नक्सलियों द्वारा निराधार आरोप लगाते हुए क्षेत्र की जनता को दिग्भ्रमित करना नक्सलियों की सोची समझी साजि़श का हिस्सा बताया। उन्होने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था अंतर्गत स्थानीय पुलिस एवं सुरक्षा बल द्वारा लोगों के सुरक्षा का दायित्व का निर्वहन किया जाता रहेगा। आईजी ने प्रतिबंधित गैरकानूनी सीपीआई नक्सली संगठन की विकास विरोधी एवं जनविरोधी हरकतों से नक्सली संगठन का जनसमर्थन समाप्त होने की बौखलाहट में नक्सली असत्य एवं गुमराह जानकारियों के माध्यम से क्षेत्र की जनता का ध्यान भटकाने का लगातार असफल प्रयास किया जा रहा है। उन्होने वनांचल क्षेत्र की जनता एवं खास तौर पर युवा तथा युवतियों से बस्तर क्षेत्र में नक्सलियों द्वारा फैलाये जा रहे हिंसात्मक विचारों का खात्मा करते हुये बस्तर क्षेत्र को एक नई पहचान दिलाने में पुलिस, सुरक्षा बल, स्थानीय प्रशासन एवं शासन का साथ देने हेतु अपील की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *