देश दुनिया वॉच प्रांतीय वॉच रायपुर वॉच

राज्य अलंकरण अवार्ड में नंदकिशोर तिवारी को पंडित सुंदर लाल शर्मा सम्मान 2021 से नवाजा गया |

(रायपुर ब्यूरो ) | हिंदी और छत्तीसगढ़ी के समर्थ आलोचक , लोक साहित्य के मर्मज्ञ विद्वान श्री नंदकिशोर तिवारी का जन्म बिलासपुर में 19 जून 1941 को हुआ | छत्तीसगढ़ी के प्रणेता कवि पंडित द्वारिका प्रसाद तिवारी और कवि पंडित गंगा प्रसाद तिवारी के परिवार के श्री तिवारी ने साहित्य संस्कार , अध्ययन , अभ्यास और साधना से अर्जित किया है | लोक गाथा पंडवानी पर आलोचनात्मक दृष्टि से किया गया उनका अनुसंधान और उस पर केंद्रित पुस्तक ने उन्हें ख्याति दिलाई | उन्हें मध्यप्रदेश सरकार ने सम्मानित भी किया | लोकनाट्य रहस पर भी उनकी इस विधा की इकलौती पुस्तक है | अब तक 24 पुस्तकों का लेखन किया जिसमें अधिकांश छत्तीसगढ़ी साहित्य और संस्कृति पर केंद्रित है | इन पुस्तकों में छत्तीसगढ़ी साहित्य का ऐतिहासिक अध्ययन पंडित मुकुटधर पांडे – व्यक्तित् और कृतित्व , डॉक्टर नरेंद्र देव वर्मा व्यक्तित्व एवं कृतित्व , पंडवानी रहस , भरथरी , विप्र रचनावली , छत्तीसगढ़ी की लोकगाथाएं और नाटक तथा कविता की पुस्तकें शामिल है |

वे अनेक विश्वविद्यालयों के कुलसचिव के पद पर रहे जिसमें सागर , बिलासपुर और रीवा के विश्वविद्यालय शामिल है |

छत्तीसगढ़ी की एकलौती नियमित पत्रिका छत्तीसगढ़ी लोकाक्षर का विगत 25 वर्षों से संपादन कर रहे हैं |

छत्तीसगढ़ी साहित्य के वर्तमान स्वरूप की प्राप्ति प्रतिष्ठा और प्रगति में श्री तिवारी का योगदान अत्यंत महत्वपूर्ण है | इन सभी उपलब्धियों के वजह से राज्य अलंकरण अवार्ड में पंडित नंदकिशोर तिवारी को साहित्य /आंचलिक साहित्य पंडित सुंदर लाल शर्मा सम्मान 2021 से नवाजा गया |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *