देश दुनिया वॉच

आतंकियों की कायराना हरकत, स्कूल में घुसकर प्रिंसिपल-टीचर की गोली मारकर हत्या

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में आतंकियों की कायराना हरकतें थमने का नाम नहीं ले रहीं हैं. आतंकी अपना आतंक दिखाने के लिए अब आम लोगों को शिकार बना रहे हैं. पिछले कुछ दिन से आतंकी आम नागरिकों की हत्याएं कर रहे हैं. गुरुवार को एक बार फिर आतंकियों ने कायराना हरकत करते हुए स्कूल के प्रिंसिपल और टीचर की गोली मारकर हत्या कर दी. पिछले 5 दिन में आतंकी 7 नागरिकों की हत्या कर चुके हैं.

जानकारी के मुताबिक, गुरुवार सुबह करीब सवा 11 बजे कुछ आतंकियों ने ईदगाह के संगम इलाके में बने गवर्नमेंट ब्वॉयज स्कूल में गोलीबारी की. इसमें स्कूल की प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और टीचर दीपक चंद बुरी तरह घायल हो गए. दोनों को तुरंत अस्पताल ले जाया गया, लेकिन दोनों की मौत हो गई. इस बीच सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी कर सर्च अभियान शुरू कर दिया है.

उमर अब्दुल्ला ने जताया दुख

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने इस आतंकी घटना पर दुख जताया है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘श्रीनगर से एक और चौंकाने वाली खबर आ रही है. इस बार ईदगाह इलाके में स्थित सरकारी स्कूल के दो टीचर्स की हत्या. आतंक के इस अमानवीय कृत्य के लिए निंदा के शब्द पर्याप्त नहीं हैं लेकिन मैं मृतकों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूं.’

इस साल अब तक 25 आम नागरिकों की हत्या

आज की घटना मिलाकर आतंकी इस साल 25 मासूम नागरिकों को मौत के घाट उतार चुके हैं. इनमें से तीन विदेशी नागरिक थे. सबसे ज्यादा 10 हत्याएं आतंकियों ने श्रीनगर में की है. उसके अलावा 4-4 हत्याएं पुलवामा और अनंतनाग में, 3 कुलगाम में, 2 बारामूला में और 1-1 बड़गाम और बांदीपोरा में कर चुके हैं. आतंकियों ने इस साल जिनकी हत्याएं की हैं, उनमें 18 मुस्लिम और दो कश्मीरी पंडित भी शामिल हैं.

मंगलवार को तीन लोगों की हत्या कर दी थी

श्रीनगर में आतंकियों ने मंगलवार को तीन आम लोगों की हत्या कर दी थी. सुबह आतंकियों ने बांदीपोरा जिले के हाजिन इलाके में SUMO के प्रेसिडेंट नायदखाई मोहम्मद शफी उर्फ सोनू की हत्या की. फिर इकबाल पार्क के पास बिंदरू मेडिकेट के मालिक माखन लाल की गोली मारकर हत्या कर दी और उनके बाद एक पानीपुरी बेचने वाले स्ट्रीट वेंडर की गोली मारकर हत्या कर दी. स्ट्रीट वेंडर की पहचान बिहार के भागलपुर निवासी वीरेंद्र पासवान हैं के रूप में हुई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *