प्रांतीय वॉच

बारिश के समय आवागमन को प्रभावित करने वाले चुरूण्डा नाला पर बने पुल का शुभांरभ

  • संसदीय सचिव श्री चिन्तामणी महाराज ने किया लोकार्पण, पुल बनने से बलरामपुर-चान्दो-कुसमी मार्ग नहीं होगा अवरूद्ध
  • बरसात में नाले का जलभराव अब नहीं बनेगी बाधा, बलरामपुर और कुसमी विकासखण्ड के लोगों को मिलेगा सीधा लाभ

आफ़ताब आलम/बलरामपुर : बरसात के मौसम में बलरामपुर-चान्दो-कुसमी मार्ग में स्थित चुरूण्डा नाले में जल भराव के कारण आवागमन अवरूद्ध होता था। बलरामपुर व कुसमी विकासखण्ड के लोग इससे सीधे प्रभावित होते थे तथा आपातकालीन परिस्थितियों में उन्हें जिला मुख्यालय आने के लिए शंकरगढ़ के रास्ते लंबी दूरी तय करनी पड़ती थी। शासन के मंशानुरूप तथा प्रशासन की सक्रियता से चुरूण्डा नाले में 30 मीटर लम्बे पुल का निर्माण कार्य प्रारंभ किया गया था। आज संसदीय सचिव व सामरी विधायक श्री चिन्तामणी महाराज के द्वारा चुरूण्डा नाले का शुभारंभ कर क्षेत्रवासियों को बड़ी सौगात दी गयी। चान्दो के रास्ते कुसमी जाने वाले लोगों के लिए यह मार्ग लाईफ लाईन है तथा पुल के बनने से क्षेत्र के ग्रामीणों की परेशानियां कम होगी। इस दौरान श्री चिन्तामणी महाराज ने कहा कि जिला मुख्यालय को जोड़ने वाली इस सड़क के रास्ते पर पड़ने वाले चुरूण्डा नाले से बरसात के मौसम में आवागमन प्रभावित होता था। आसपास के ग्रामीणों को जिला मुख्यालय तक न पहुंच पाने के कारण होने वाले कठिनाईयां अब दूर हो गयी हैं। पुल के निर्माण से जिला मुख्यालय और कुसमी विकासखण्ड के मध्य बरसात के मौसम में निर्बाध आवागमन हो पायेगा। कलेक्टर श्री इंद्रजीत सिंह चन्द्रवाल ने भी कुसमी और बलरामपुर विकासखण्ड के लोगों को बधाई देते हुए कहा कि इस पुल के रूप में क्षेत्रवासियों के लंबे समय की मांग पूरी हुई है। अब आपातकालीन परिस्थितियों में मौसम उनके आड़े नहीं आयेगा तथा सुचारू आवागमन से लोगों की दिक्कतें दूर होगी। इस अवसर पर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व कुसमी श्री आर.एस.लाल, जनपद पंचायत अध्यक्ष कुसमी श्री हुमंत सिंह, मुख्य कार्यपालन जनपद पंचायत कुसमी श्री रणवीर साय, जनपद पंचायत उपाध्यक्ष श्री हरिश मिश्रा सहित आमजन उपस्थित थे।
/ फोटो 01 से 03

15 से 30 सितम्बर तक मनाया जायेगा आयुष्मान भारत पखवाड़ा, प्राथमिकता के साथ निःशुल्क बनेगा आयुष्मान कार्ड
23 सितम्बर को होगा आयुष्मान भारत दिवस का आयोजन
बलरामपुर : राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण से प्राप्त निर्देशों के अनुसार जिला प्रशासन द्वारा 15 से 30 सितंबर के दौरान जिले में आयुष्मान भारत पखवाड़ा एवं 23 सितंबर 2021 को आयुष्मान भारत दिवस के रूप में मनाया जायेगा। इस पखवाड़े के दौरान योजनांतर्गत् सर्वाधिक आयुष्मान कार्ड पंजीयन करने, निःषुल्क ईलाज की जानकारी प्रदान करने एवं क्लेम को बढ़ाने के उद्धेष्य से पखवाड़े के प्रत्येक दिवस एवं आयुष्मान भारत दिवस को विषेष गतिविधियां आयोजित की जायेगी।

पखवाड़े के दौरान प्रतिदिन जिला स्तर पर एक बैठक का आयोजन कर समस्त पंजीकृत अस्पतालों को आयुष्मान भारत पखवाड़ा एवं आयुष्मान भारत दिवस की जानकारी दी जायेगी। प्रतिदिन प्रत्येक विकासखण्ड में शासकीय एवं निजी अस्पताल, सामुदायिक भवन, स्कूल, ग्राम पंचायत भवन, शहरी क्षेत्र में वार्ड कार्यालय, वैक्सीनेषन सेंटर इत्यादि में से एक या दो स्थानों में आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के बारे में लोगों को बताया जायेगा।

पाम्पलेट, पोस्टर, बैनर इत्यादि के माध्यम से आयुष्मान भारत पखवाड़ा एवं योजना की जानकारी लोगों तक पहुंचाई जायेगी। नगरीय निकायों के वाहनों में प्रत्येक दिन, योजना संबंधी रिकॉर्डिंग, नारे-गीत का प्रसारण किया जा रहा है। सार्वजनिक वितरण प्रणाली की राषन दुकानों, च्वाइस सेंटरों के माध्यम से भी आयुष्मान कार्ड पंजीयन एवं योजना की जानकारी दी जायेगी। समस्त पंजीकृत अस्पताल में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ओ.पी.डी. या भर्ती मरीज का आयुष्मान कार्ड पंजीयन किया जायेगा तथा संबंधित अस्पताल में पंजीयन की सुविधा न होने पर निकटस्थ च्वाईस सेंटरों के माध्यम से आयुष्मान कार्ड पंजीयन सुनिष्चित किया जाना है। 23 सितम्बर 2021 को आयुष्मान भारत दिवस आयोजित किया जायेगा, जिसमें उपचार प्राप्त हितग्राहियों से परिचर्चा एवं फीडबैक, अच्छे कार्य करने वाले च्वाईस सेंटर, व्हीएलई¬ का सम्मान, उपचार प्रदान करने एवं शून्य, न्यूनतम शिकायत वाले अस्पतालों का सम्मान, आपके द्वार आयुष्मान अभियान के संबंध में जानकारी दिया जाना तथा प्रत्येक ग्राम में विषेष ग्राम सभा का आयोजन कर योजना के बारे में बताया जायेगा।

13 से 20 सितम्बर तक चलने वाले राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ, जिले के 3 लाख 96 हजार बच्चों को खिलाई जायेगी कृमिनाशक गोलियां


बलरामपुर : 13 से 20 सितम्बर तक चलने वाले राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम का शुभारंभ विकासखण्ड बलरामपुर के शासकीय प्राथमिक शाला बरियाडीह में नगरपालिका अध्यक्ष श्री गोविंद राम के द्वारा कृमिनाशक एलबेंडाजोल की गोली खिलाकर की गयी। इस कार्यक्रम अंतर्गत 1 से 19 वर्षीय बच्चों, किषोर-किषोरियों को कृमि मुक्ति की दवा एल्बेंडाजोल समुदाय स्तर पर मितानिन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा घर-घर भ्रमण कर निःषुल्क खिलायी जायेगी। एल्बेंडाजोल की खुराक 1 से 2 वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों को आधी गोली तथा 3 से 19 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को एक पूरी गोली खिलायी जायेगी। बलरामपुर जिले अंतर्गत कुल 3 लाख 96 हजार 35 बच्चों, किषोर-किषोरियों को एल्बेंडाजोल की गोली खिलायें जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। शुभारंभ कार्यक्रम दौरान आरएचओ श्रीमती नेहा गुप्ता द्वारा स्वास्थ्य, शिक्षा व हाथ धोने की विधि तथा कृमि नाशक दवाई के फायदों के बारे में जानकारी दी गयी। उन्होंने बताया कि शेष बच्चे जो स्कूल नहीं आ रहे हैं, उनको आरएचओ, मितानिन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा घर-घर जाकर एलबेंडाजॉल की गोली खिलाई जाएगी। यह कार्यक्रम 13 से 23 सितम्बर 2021 तक चलेगा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.बसंत सिंह ने अभिभावकों से अपील करते हुए कहा है कि बच्चों को एलबेंडाजोल की गोली अवश्य खिलाएं। कृमि संक्रमण से बच्चों, किषोर-किषोरियों में कुपोषण और खून की कमी होती है, जिसके कारण हमेषा थकावट रहती है तथा शारीरिक व मानसिक विकास नहीं होता है। इसलिए कृमि मुक्तिनाष हेतु एल्बेंडाजोल की गोली खिलाया जाना आवष्यक होता है। राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम का संचालन कोविड-19 संबंधित दिषा-निर्देषों का पालन करते हुये किया जायेगा। अधिक जानकारी के लिये नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र, चिकित्सा अधिकारी, स्वास्थ्य कार्यकर्ता, एएनएम, मितानिन व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सें संपर्क करें।

10 सितम्बर से 10 अक्टूबर तक चलेगा टी.बी. का सघन खोज एवं उपचार अभियान
संभावित लक्षण वाले मरीजों से की गयी जांच की अपील
बलरामपुर : शासन के निर्देशानुसार 10 सितम्बर से 10 अक्टूबर तक एनटीईपी कार्यक्रम अंतर्गत टी.बी. की सघन खोज एवं उपचार अभियान जिले में चलाया जा रहा है। उक्त अभियान हेतु स्वास्थ्य कार्यकर्ता एवं मितानिनों का दल गठित कर संभावित लक्षणों वाले मरीजों की खोज की जा रही है। अभियान में समस्त जनता एवं जनप्रतिनिधि सहयोगात्मक पहल करते हुए ज्यादा से ज्यादा टी.बी. के लक्षणात्मक लोगों की जांच करावें। टी.बी. का जांच एवं उपचार पूर्णतः निःशुल्क है तथा मरीजों को पोषण योजना का भी लाभ दिया जायेगा। टी.बी. जांच जिले में उपलब्ध आधुनिक मशीन एनएएटी द्वारा किया जायेगा। जिला क्षय नियंत्रण अधिकारी ने आमजनों से अपील करते हुए कहा है कि लोग स्वास्थ्य विभाग के इस पहल में सहयोग करें तथा टीबी के संभावित लक्षण दिखने पर जांच अवश्य कराये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *