प्रांतीय वॉच

बघमरा में शत्-प्रतिशत ग्रामीणों को मिल रहा शुद्ध पेयजल

  • जल जीवन मिशन से 551 घरों में पहुंचने लगा नल से जल
  • खुश हैं गांव की महिलाएं, जताया आभार

तापस सन्याल/भिलाई : जल जीवन मिशन द्वारा प्रदेश के सभी घरों में शुद्ध पेयजल पहुंचाने का कार्य तेजी से किया जा रहा है। बालोद जिले के ग्राम बघमरा में यह कार्य पूर्ण हो चुका है। जल जीवन मिशन के तहत गांव में स्थित सभी 551 घरों में नल लगाया जा चुका है, जिससे ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल मिलने लगा है। घर-घर शुद्ध पेयजल की आपूर्ति होने से ग्रामीणों को बड़ी राहत मिली है। अब उन्हें पानी की व्यवस्था के लिए न तो घर से दूर जाना पड़ता है न ही हैण्डपम्प से पानी लेने के लिए अपनी बारी आने का इंतजार करना पड़ता है। शुद्ध पेयजल की आपूर्ति होने से अब ग्रामीणों को पेयजल से होने वाली बीमारियों पर भी रोक लगेगी।

गौरतलब है कि बघमरा गांव के लोग पेयजल के लिए इससे पहले हैण्डपम्प पर आश्रित थे। गांव के अलग-अलग हिस्सों में कुल सात हैण्डपम्प स्थापित थे। गर्मी के दिनों में भू-जल स्तर नीचे जाने से पेयजल की समस्या का भी ग्रामीणों को सामना करना पड़ता था। जल जीवन मिशन से अब बघमरा गांव के हर घर में नल से जल पहुंचने से ग्रामीणों की जिंदगी आसान हो गई है। गांव की महिलाएं बेहद खुश हैं, घर-घर पेयजल की व्यवस्था केके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरू रूद्रकुमार सहित जिला प्रशासन आभार जताया है। महिलाओं का कहना है कि अब उन्हें पेयजल के इंतजाम के लिए सुबह-सुबह उठते ही हैण्डपम्प की ओर जाने की जरूरत नहीं रह गई है। बघमरा गांव में जल जीवन मिशन के तहत 23.37 लाख रुपये की लागत से गांव में 551 नए नल कनेक्शन लगाए जा चुके है। योजना के क्रियान्वयन से स्वच्छता अभियान के अंतर्गत निर्मित शौचालयों के उपयोग के लिए भी पानी की पर्याप्त उपलब्धता आसान हो गई एवं ग्रामीणों के जीवन में आसानी हो गई है।

उल्लेखनीय है कि बालोद जिले के बघमरा गांव में 11-12वीं सदी का एक मंदिर है जो बाबागुफा के नाम से प्रसिद्ध है। जहां प्रति वर्ष फरवरी माह में मेला लगता है। मेले में हजारों की संख्या में अंचल के श्रद्धालु मंदिर में पूजा-अर्चना एवं दर्शन के लिए आते हैं। मंदिर परिसर में पानी की किल्लत थी। इसके निदान के लिए जल जीवन मिशन से जलापूर्ति की व्यवस्था की गई है। अब बाबागुफा में आने वाले श्रद्धालुओं को पेयजल एवं निस्तार के लिए दिक्कत नहीं होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *