प्रांतीय वॉच

लोहाणा महापरिषद मध्यक्षेत्र छत्तीसगढ़ का भव्य अभिनंदन समारोह सम्पन्न 

किरीट ठक्कर/ रायपुर । श्री लोहाणा महापरिषद मध्यक्षेत्र झोन क्रमांक 11 छत्तीसगढ़ रिजन द्वारा 21 मार्च रविवार को भव्य अभिनंदन समारोह आयोजित किया गया। होटल सायाजी रायपुर में आयोजित इस समारोह में रायपुर सहित दुर्ग भिलाई धमतरी गरियाबंद नयापारा राजिम महासमुंद तथा छत्तीसगढ़ के अन्य जिलों के साथ साथ ओडिसा लोहाणा ( गुजराती ) समाज के महिला पुरुष सैंकड़ो की संख्या में सम्मिलित हुये। समारोह का शुभारंभ दीप प्रज्ज्वलन स्वागत गीत गणेश वन्दना तथा ध्वजा गीत के साथ किया गया। पश्चात छत्तीसगढ़ के अलग अलग जिलों से पधारे महाजनों द्वारा अतिथियों का स्वागत किया गया। एक छोटे सांस्कृतिक कार्यक्रम के बाद मध्य भारत ज़ोन प्रमुख , किशन भाई मिरानी द्वारा स्वागत भाषण का वाचन किया गया। कार्यक्रम की रूपरेखा रायपुर रिजनल प्रमुख प्रकाशभाई दावड़ा द्वारा प्रस्तुत की गई। प्रकाश भाई दावड़ा ने अपने उद्बोधन बताया कि किस तरह वे रायपुर में पिछले अनेक दशकों से रघुवंशी लोहाणा समाज की एकता व उत्थान के लिये लगातार सक्रिय रहे हैं। उन्होंने बताया कि सामाजिक गतिविधियों के लिए अर्थतंत्र राजतंत्र व समाजतंत्र की आवश्यकता होती है। श्रीमती प्रगति मिरानी ने समाज में स्त्रियों की भूमिका पर प्रकाश डाला , उन्होंने कहा कि समाज तथा परिवार में स्त्री – पुरुष का सामंजस्य आवश्यक है। पूर्वी भारत ज़ोन प्रमुख हेमंत भाई काथरानी ने समारोह में उपस्थित स्वजनों को संबोधित करते हुए कहा कि महापरिषद के माध्यम से समाज के हर वर्ग का ख्याल रखा जायेगा। लोहाणा महापरिषद के वरिष्ठ उप प्रमुख जितेंद्र भाई ठक्कर ने कहा कि छत्तीसगढ़ में समाज की एकता उत्थान तथा अखंडता के लिये , लिये गये निर्णय महत्वपूर्ण है, देश प्रदेश के दूर दराज गांवों तक भी यदि लोहाणा समाज का एक भी परिवार है तो उसे महाजन का अंग समझा जाये।
संबोधन की अंतिम कड़ी के रूप में विश्व लोहाणा महापरिषद के प्रमुख सतीश भाई विट्ठलानी ने कहा कि वे लगभग 31 वर्षो से महापरिषद से जुड़ाव रखते हैं तथा इस समय वे महापरिषद के पंद्रहवें प्रमुख हैं। अब तक महापरिषद की पंद्रह जोन का गठन किया जा चुका है , प्रत्येक झोन के अंदर अन्य कमेटियां भी गठित की जायेंगी। उन्होंने बताया कि हम श्रीरामचंद्र के वंशज है इसीलिए रघुवंशी कहलाते हैं हमारे समाज का प्रत्येक व्यक्ति बेहद खास व महत्वपूर्ण है। बड़े बड़े राजनेताओं के साथ साथ विख्यात संत महात्माओं के साथ भी एक लोहाणा अवश्य मिलेगा। उन्होंने भारत के अलावा विश्व के अन्य देशों साउथ अफ्रीका ईस्ट अफ्रीका यूएई जाम्बिया न्यूजीलैण्ड ऑस्ट्रेलिया हॉंगकॉंग सिंगापुर ओमान आदि देशों में लोहाणा महापरिषद की सक्रियता व गठन की जानकारी दी।
समारोह के दूसरे ओपन सेशन में उपस्थित सामाजिक सदस्यों ने महापरिषद के पदाधिकारियों के समक्ष अपनी समस्याओं शंकाओ तथा अन्य बातों पर खुलकर चर्चा की। दूसरे सेशन में ही छत्तीसगढ़ लोहाणा समाज के डिजिटल वस्ति पत्रक का विमोचन सतीश भाई विट्ठलानी द्वारा किया गया। समारोह के अंत में अतिथियों ,वरिष्ठजनों तथा विभिन्न शहरों से पधारे महाजनों को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। अंत में हितेशभाई रायचुरा द्वारा आभार प्रकट किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *