प्रांतीय वॉच

विश्वसंवाद केंद्र ने किया पांचजन्य के ‘श्रीराम जन्मभूमि राष्ट्र मंदिर’ विशेषांक का विमोचन

 मनोज शर्मा/ बिलासपुर। छत्तीसगढ़ विश्व संवाद केंद्र ने पांचजन्य के ‘श्रीराम जन्मभूमि राष्ट्र मंदिर’ विशेषांक के विमोचन समारोह का आयोजन किया। कार्यक्रम संजीवनी अस्पताल के ऑडिटोरियम में आयोजित हुआ। कार्यक्रम के आरंभ में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रांत प्रचार प्रमुख कनीराम नंदेश्वर जी ने कार्यक्रम की पूरी प्रस्तावना रखी और श्रीराम मंदिर निर्माण के पूरे इतिहास पर प्रकाश डालते हुए पांचजन्य के इस अंक को संग्रहणीय बताते हुए श्रीराम मंदिर निर्माण के महत्व को रेखांकित किया।
गुरुघासीदास विवि की कुलपति एवं कार्यक्रम की मुख्य अतिथि प्रो. अजिला गुप्ता जी ने अपने उद्बोधन में कहा कि छत्तीसगढ़ के चप्पे चप्पे में प्रभु श्रीराम जी के कुछ न कुछ संस्मरण विद्यमान हैं। यहां के दंडकारण्य में भी श्रीराम जी ने बहुत समय गुजरा, यहां उन्होंने कई संतों से भेंट भी की और उनका सान्निध्य प्राप्त किया। पांचजन्य पत्रिका के विशेषांक के विमोचन में श्री राम मंदिर के संघर्ष की गाथा को प्रकाशित करने के लिए संपादकों को साधुवाद दिया।
कार्यक्रम में वक्तव्य देते हुए नेत्र विशेषज्ञ डॉ ललित मखीजा जी ने श्रीराम मंदिर निर्माण हेतु समर्पण निधि के अभियान के अनुभव बताए। अनुभव कथन के बीच वे कई बार भावुक भी हो गए। इस कार्य मे लगे सभी कार्यकर्ताओं को उन्होंने सौभाग्यशाली बताया जो कि उन्हें रामकाज करने का अवसर मिला।
कार्यक्रम में बतौर मुख्य वक्ता बोलते हुए अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ पूर्णेन्दु सक्सेना ने पांचजन्य के इस विशेषांक के विमोचन के उद्देश्य बताए और साथ ही श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए समर्पण निधि के एकत्रीकरण में जनमानस के मन में जो भाव उत्पन्न हुए उसका वर्णन किया। राम मंदिर आंदोलन के विषय मे संघ के चिंतन और संघर्ष के संस्मरण पर प्रकाश डालते हुए। उन्होंने श्रीराम मंदिर आंदोलन निर्माण में न्यायिक प्रक्रिया के विषय पर भी प्रकाश डाला। श्रीराम मंदिर निर्माण से राष्ट्र निर्माण कैसे होगा, समाज पर मंदिर निर्माण की प्रक्रिया और भव्य मंदिर निर्माण के बाद की स्थिति पर कैसा सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। इस पर अपने विचार रखे। उन्होंने राम मंदिर निर्माण के पूरे संघर्ष के दौर पर समाज के प्रबुद्ध वर्ग से अध्ययन करने और अपने अनुभवों से समाज को पुनर्जागरण का काम करने आग्रह किया।
कार्यक्रम में बिलासपुर नगर से राम मंदिर कारसेवा में सम्मिलित 42 कारसेवकों का सम्मान भी किया गया। कार्यक्रम का आभार ज्ञापन संजीवनी अस्पताल के संचालक एवं माननीय विभाग सह संघचालक डॉ विनोद जी ने करते हुए कहा कि श्रीराम मंदिर निर्माण से राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया भी चल रही है। समाज का प्रबुद्ध वर्ग आज जागृत होकर देश निर्माण की प्रक्रिया में बढ़-चढ़ कर भाग ले रहा है।
कार्यक्रम का संचालन छत्तीसगढ़ प्रान्त विश्वसंवाद केंद्र के सचिव डॉ प्रफुल्ल शर्मा जी ने किया।
कार्यक्रम में श्री काशीनाथ गोरे जी, श्री बसंत अंचल जी, श्री रणवीर मरहास जी, श्री प्रदीप शर्मा जी, श्री उचित सुदजी, श्री दिलीप शर्मा, श्री संतोष तिवारी जी, श्री राजेन्द्र अग्रवाल जी, श्री पीके वाजपेयी जी, श्री तारनीस गौतम जी, श्री राजकुमार सचदेवा जी के साथ बड़ी संख्या में प्रबुद्ध जन उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *