प्रांतीय वॉच

रेत तस्करों द्वारा बनवाया गया अवैध रैम प्रशासन  के द्वारा तोड़ा गया….!

  • पुलिस विभाग की रही अहम भूमिका वही तहसीलदार  नायब तहसीलदार रहे मौजूद…!

अक्कू रिजवी/ कांकेर : ज़िला उत्तर बस्तर कांकेर में विभिन्न स्थानों में नदियों की रेत की तस्करी के विषय में यह लोकप्रिय समाचार पत्र निरंतर कुछ ना कुछ खोजी खबर प्रकाशित करता ही रहता है जिसका असर भी देखने को मिलता है। इसी संदर्भ में आज ही यह देखने को मिला कि अनेक शिकायतों के बाद प्रशासन ने ग्राम नारा पंचायत क्षेत्र में रेत की चोरी रोकने हेतु वहां बने हुए एक अवैध रैम निर्माण को जेसीबी द्वारा तुड़वा दिया है। यह अवैध निर्माण तस्करों द्वारा इसलिए करवाया गया था ताकि बड़े-बड़े ट्रक हाईवा आदि रात में चोरी छुपे सीधे नदी में उतर कर भारी मात्रा में रेत लोड कर शीघ्रता से उसी रैम से चढ़कर वापस भी हो जाएं और अन्य जिलों के लिए रेत की तस्करी रातों-रात  हो जाए। प्रशासन ने यह कार्यवाही बहुत अधिक लिखा पढ़ी और समाचार पत्रों में लगातार प्रकाशन के पश्चात की है। जिसे देर आयद दुरुस्त आयद कहा जा सकता है। उक्त तोड़फोड़  तहसीलदार महोदय के नेतृत्व में सरकारी अमले ने किया। शांति व्यवस्था बनाए रखने हेतु पुलिस बल की भी आवश्यकता पड़ गई थी क्योंकि घटनास्थल पर कुछ ग्रामीण विरोध करने हेतु पहुंच गए थे। किंतु पुलिस बल आ जाने के बाद हर प्रकार के विरोध को नज़रअंदाज़ करते हुए प्रशासन ने जेसीबी द्वारा अवैध निर्माण को ध्वस्त कर  ही दिया। पहली बार लोगों ने सुखद आश्चर्य से देखा कि प्रशासन का अमला ग़रीबों की झुग्गी झोपड़ियों के बजाय तस्करों के निर्माण को तोड़ रहा था। ऐसा लगता है कि अब कांकेर जिले में झुग्गी झोपड़ी बची ही नहीं होगी। इसीलिए प्रशासन के अमले को तस्करों के निर्माण को तोड़ने की फुर्सत मिल गई है। जो भी हो आम जनता में इस कार्य की प्रशंसा इसलिए हो रही है क्योंकि अब तस्करों के बड़े-बड़े ट्रक ग्राम नारा में महानदी की रेती चुराने नीचे तक नहीं उतर पाएंगे। अब उन्हें बहुत अधिक खर्च कर अनेक ट्रैक्टरों तथा पोकलेन की बड़ी मशीनों का प्रबंध करना पड़ेगा। घटनास्थल पर उपस्थित सरपंचिन बाई ने शिकायत की कि प्रशासन ने तोड़ने से पहले ग्राम सभा की अनुमति लेना तो दूर सूचना तक नहीं दी । कुछ ग्रामीणों ने तस्करों का समर्थन करते हुए कहा कि तोड़े गए रैंप का निर्माण गांव के ही बेरोज़गारों को काम देने के लिए किया गया था और गांव वालों की शिकायत के बिना ही प्रशासन ने एकतरफा कदम उठा लिया। कुछ ग्रामीणों ने इस तोड़फोड़ के खिलाफ अनुविभागीय अधिकारी के आगे भी फरियाद की है लेकिन इस बीच तस्करों द्वारा अत्यंत मजबूती से बनाया गया तस्करी के काम आने वाला रैम पूरी तरह ध्वस्त कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *