क्राइम वॉच

अतिक्रमणकारी ने गोंदईया गांव के सरपंच को दी जान से मारने की धमकी, गांव के एक दंपति के ऊपर किया जानलेवा हमला इस मामले को लेकर ग्रामवासी ट्रैक्टर में रात को 9:00 बजे पहुंचे रतनपुर थाना

अतिक्रमणकारी ने गोंदईया गांव के सरपंच को दी जान से मारने की धमकी, गांव के एक दंपति के ऊपर किया जानलेवा हमला इस मामले को लेकर

ग्रामवासी ट्रैक्टर में रात को 9:00 बजे पहुंचे रतनपुर थाना

रतनपुर से वासित अली की रिपोर्ट

रतनपुर थाना अंतर्गत ग्राम गोंदईया में शासकीय भूमि पर रमेश साहू के द्वारा बेजा कब्जा कर अतिक्रमण किया गया है जिस जगह पर बेजा कब्जा किया गया है वह जगह पूर्व से गांव के द्वारा स्कूल के लिए प्रस्तावित जगह है जिसे बेदखली के लिए एसडीम बिलासपुर व तहसीलदार कार्यालय में कार्यवाही चल रही है जिसका 20 फरवरी 2024 दिन मंगलवार को बेजा कब्जा हटाने का आदेश हुआ था जिस पर शासन प्रशासन के द्वारा बेजा कब्जा हटाया जाना था लेकिन पुराने एसडीएम के तबादले के बाद नए एसडीएम आने के कारण अतिक्रमणकारी रमेश साहू व उसके साथी अशोक साहू को उसी दिन कब्जा नहीं हटाने के लिए स्टे मिल गया

अशोक साहू और रमेश साहू दोनों के द्वारा पूरा गांव में आतंक मचाते हुए स्टे मिलने को अपनी बहुत बड़ी उपलब्धि मानकर गांव में गुंडागर्दी और दबंगई करना चालू कर दिए और सीधे जाकर सरपंच के घर उसे जान से मारने की धमकी दे डाले वहां से निकलने के बाद गांव के ही एक परिवार के ऊपर जानलेवा हमला करते हुए महिला के गले को दबा दिया, बीच बचाव में आए उसके पति की भी डंडे से पिटाई कर दी इस तरह से गांव में सभी से मार पिटाई करना चालू कर दिया गांव में खूब उत्पाद मचाते रहे

यह घटना पूरे गांव में आग की तरफ फैल गई और इन दोनों के आतंक से परेशान होकर पूरे ग्रामवासी ट्रैक्टर में रतनपुर थाने पहुंचकर, रतनपुर थाने का घेराव कर दिए जिस पर रतनपुर थाना प्रभारी देवेश सिंह ने ग्राम वासियों की तरफ से रिपोर्ट लिखकर ग्राम वासियों को समझाइश दी, फिर भी ग्रामवासी रात 11:00 बजे तक थाना में डटे रह जिसमें भारी संख्या में महिला के साथ-साथ पुरुष, बच्चे, बूढ़े शामिल थे थाना प्रभारी के समझाइए देने पर और उचित कार्यवाही के आश्वासन देने के बाद सभी वापस गांव चले गए

पूरा मामला गांव में स्कूल बनाने को लेकर एक तरफा आंदोलन कर रहे है लेकिन एक व्यक्ति के सामने शासन, प्रशासन और पूरा गांव नतमस्तक नजर आ रहा है जिससे जनहित में बनाया जा रहा स्कूल 2018 से लेकर अभी तक विवादों के घेरे पर
है
ग्राम वासियों का कहना है कि उन्होंने सभी जगह गुहार लगाई है कलेक्टर, एसडीएम तहसीलदार, विधायक लेकिन ग्राम के इस समस्या पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं जिससे ग्रामवासी बहुत परेशान है अब यह तो आने वाला समय ही बताएगा की ग्राम वासियों को न्याय मिलेगा या यूं ही उनके बच्चों को दूर दराज के स्कूलों पर ही पढ़ने पर मजबूर होना पड़ेगा स्कूल की इस समस्या से गांव में कोई अप्रिय घटना घट जाए या किसी की जान चली जाए तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी, समय रहते इस समस्या पर अगर शासन प्रशासन ध्यान नहीं देता है और कड़ाई से कार्यवाही करते हुए बेजा कब्जा नहीं हटता है तो आने वाले दिनों में गांव वालों का कहना है कि उग्र आंदोलन किया जाएगा जिसकी जवाबदारी भी शासन प्रशासन की होगी ऐसे अपराधिक प्रवृत्ति के बेजा कब्जाधारियों के ऊपर कार्यवाही नहीं होने से ही इनके हौसले बुलंद रहते हैं ग्राम वासियों के द्वारा कलेक्टर एसडीएम को दिए गए आवेदन और रतनपुर थाने में किए गए रिपोर्ट दर्ज पर पुलिस क्या कार्यवाही करती है ?

या यूं ही गांव में मार पिटाई की घटना घटते रहेगी या फिर प्रशासन को किसी बड़ी घटना का इंतजार है यह तो अब आने वाला वक्त ही बताएगा
अब देखने वाली बात यह होगी कि ग्राम वासियों को कब तक न्याय मिल पाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *