प्रांतीय वॉच

पीएससी घोटाला : ईओडब्ल्यू ने दर्ज की FIR, तत्कालीन चेयरमैन समेत कई नेताओं का नाम…

रायपुर। आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (ईओडब्ल्यू) ने पीएससी भर्ती गड़बड़ी मामले में एफआईआर दर्ज किया गया है। एफआईआर में तत्कालीन पीएससी चेयरमैन टामन सिंह सोनवानी समेत कई नेताओं का नाम शामिल है। जीवन किशोर ध्रुव के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है।

बता दें कि भाजपा लगातार इस मामले को उठाती रही है। सरकार में आने से पहले भाजपा ने वादा किया था कि हमारी सरकार आई तो पीएससी मामले की जांच कराई जाएगी और दोषियों को जेल भेजा जाएगा। भाजपा ने इस मामले को अपने आरोप पत्र में भी शामिल किया था। भाजपा सरकार ने मामले की सीबीआई जांच कराने का फैसला भी ले चुकी है। अब दोषियों पर एफआईआर भी दर्ज हो चुकी है

गौरतलब है कि 11 मई 2023 को सीजी पीएससी 2021 का फाइनल रिजल्ट जारी हुआ था. इसमें 171 पदों पर पीएससी ने भर्ती की थी, जिसमें 15 लोगों का चयन डिप्टी कलेक्टर के लिए हुआ था। बीजेपी ने आरोप लगाया था कि मेरिट लिस्ट में पीएससी चेयरमैन के रिश्तेदारों और कांग्रेस पार्टी के नेताओं के करीबियों को जगह मिली है। इन आरोपों के बाद लोक सेवा आयोग आरोपों के घेरे में थी और बीजेपी के नेता ननकी राम कंवर ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी। इसके बाद कोर्ट ने 18 लोगों की नियुक्ति को रोकने के आदेश दिए थे।

राज्य सरकार इस मामले की सीबीआई जांच कराने का फैसला ले चुकी है। छत्तीसगढ़ शासन गृह (पुलिस) विभाग ने महानिदेशक राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो एवं एन्टी करप्शन ब्यूरो रायपुर को अपने पत्र के माध्यम से अवगत कराया है कि छग राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित प्रतियोगी परीक्षा वर्ष 2021 में 170 पदों के लिए ली गई थी, जिसका परिणाम 11.05.2021 को जारी किए जाने के बाद राज्य लोकसेवा आयोग पर अनियमितता एवं भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए ननकीराम कंवर व अन्य माध्यमों से शिकायतें प्राप्त हुई थी। इसकी जांच राज्य शासन ने केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई से कराने का निर्णय लिया था। इसके परिपालन में राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ने उक्त विषय पर अपराध धारा 420, 120बी भा. द. वि. एवं धारा- 07, 7 (क) एवं धारा-12 भ्र.नि.अधि. के तहत पंजीबद्ध किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *