प्रांतीय वॉच

राजनांदगांव जिले में 20 गांव को शामिल करने की मांग को लेकर बड़ी संख्या में एसडीएम कार्यालय पहुंचे ग्रामीण

खैरागढ़। ठेलकाडीह समेत आसपास के करीब 20 गांव को राजनांदगांव जिले में यथावत शामिल करने की मांग को लेकर बुधवार को ग्रामीण बड़ी संख्या में एसडीएम कार्यालय पहुंचे। जहां उन्होंने एक बार फिर एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर उनके गांवों को पुराने जिले में यथावत रखने की मांग की है। जिसमें ग्राम पंचायत ठेलकाडीह, महरूमकला, मरकामटोला, छछानपहरी, तुलसीपुर, फत्तेपुर, सिंगारपुर, गोपालपुर, चारभाठा, सिरसाही, आल्हानवागांव, रूरो, विचारपुर, गातापारकला, शिकारीटोला, पचपेडी सहित आसपास के लगभग 20 गांव शामिल है। उन्होंने 9 बिन्दुओं पर अपनी समस्याएं भी रखी। जिसमें ठेलकाडीह से राजनंदगांव की दूरी मात्र 17 किमी है। जबकि वर्तमान नवीन प्रस्तावित जिला खैरागढ़ की दूरी 23 किमी, छुईखदान की दूरी 35 किमी तथा गंडई की दूरी 55 किमी है। वहीं ठेलकाडीह से 200 मी. की दूरी दक्षिण दिशा में राजनांदगांव की ब्लॉक की सीमा प्रारंभ हो जाती है। उत्तर में 5 किमी की दूरी पर राजनंदगांव ब्लॉक की सीमा प्रारंभ हो जाती है। पूर्व में भी 5 किमी की दूरी पर राजनंदगांव की सीमा प्रारंभ हो जाती है तथा दक्षिण दिशा में 9 किमी की दूरी पर डोंगरगढ़ की सीमा प्रारंभ हो जाती है। तीनों दिशाओं से राजनांदगांव ब्लॉक के गांवों से बहुत ही कम दूरी से लगा हुआ है। इसके अलावा अन्य बिन्दुओं पर उन्होंने ज्ञापन में जानकारी दी।

संबंधित गांवों को राजनांदगांव जिला में यथावत रखने की मांग को लेकर ग्रामीण पहले भी ज्ञापन सौंप चुके थे। उन्होंने भाजपा नेताओें के नेतृत्व में सचिव राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग रायपुर के नाम कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा को ज्ञापन सौंपा था। जिसकी खैरागढ़ एसडीएम कार्यालय में बुधवार को पेशी थी। जहां पहुंचकर संबंधित पंचायतों के प्रतिनिधियों ने अपना बयान दर्ज कराया है। वही फिर से डेढ़ दर्जन से अधिक गांवों को राजनांदगांव जिले में शामिल करने की मांग की है।

अपनी मांग को लेकर बिंदुवार जानकारी दी है। उन्होंने बताया है कि ठेलकाडीह 57 गांवों का केन्द्र बिन्दू हैं, जिसमें खैरागढ़ ब्लाक का 24 गांव, राजनांदगांव का 25 गांव और डोंगरगढ़ का 8 गांव शामिल है। वही ठेलकाडीह, राजनांदगांव और खैरागढ़ के दोनों विकासखंड के अंतिम छोर में स्थित है। इसी कारण तीनों ब्लाकों के गावों को समावेश कर थाना बनाया गया है। अगर राजनांदगांव ब्लाक के गांवों को ठेलकाडीह से विलोपित किया जाता है, तो ठेलकाडीह थाना का अस्तित्व ही नहीं रहेगा।

ज्ञापन में ठेलकाडीह में सीएसपीडीसीएल विद्युत वितरण केन्द्र का भी जिक्र किया गया है। जिसमें बताया गया है कि यहां कनिष्ठ अभियंता कार्यालय है। जिनका मुख्यालय डिवीजन राजनांदगांव में है और कार्यपालन अभियंता राजनांदगांव अधीन है। यहां के किसानों के कार्य सिंचाई पंप विद्युत कनेक्शन, घरेलु कनेक्शन का कार्य राजनांदगांव से हो जाता है। खास बात यह है कि खैरागढ़ ब्लाक का मात्र 12 गांव ही केन्द्र में आते है, जबकि शेष 28 गांव राजनांदगांव ब्लाक का है।

ठेलकाडीह क्षेत्र सहित आसपास के गांवों को लोक निर्माण विभाग राजनांदगांव आता है। भवन, सड़क संबंधी मामलों के लिए राजनांदगांव जिला मुख्यालय में सभी कार्य हो जाते हैं। इसके आलवा ठेलकाडीह सहित आसपास के गांवों का जल संसाधन विभाग राजनांदगांव है। यहां बांध व सिचाई के लिए पानी की आवश्यकता के लिए किसान राजनांदगांव जल संसाधन विभाग जाते है। हमारे क्षेत्र जल संसाधन विभाग खैरागढ़ नहीं पड़ता। वही शासकीय महाविद्यालय ठेलकाडीह में संचालित है। साथ ही किसी अन्य कार्य के लिए राजनांदगांव के उपर आश्रित रहने की बात कही गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *