प्रांतीय वॉच

छत्तीसगढ़ीयावाद का दावा करने वाली कांग्रेस के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का कहाँ गया छत्तीसगढ़ियावाद – दयालदास बघेल

 

छत्तीसगढ़ से गैर-छत्तीसगढ़ियों को राज्यसभा भेजने पर छत्तीसगढ़ की सियासत में मची खलबली भाजपाइयों ने घेरा

संजय महिलांग/नवागढ़
नांदघाट- कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व राष्ट्रीय महासचिव व सी.ई.सी प्रभारी मुकुल वासनिक ने राज्यसभा सांसदों की उम्मीदवारों की घोषणा किया जिसमें छत्तीसगढ़ से राज्यसभा सांसद के लिए बिहार के नेता पप्पू यादव की पत्नी श्रीमती रंजीता रंजन को और गांधी परिवार के करीबी राजीव शुक्ला को बनाया गया है जिससे छत्तीसगढ़ की सियासत मचल उठी जिसपर छत्तीसगढ़ के नेताओं ने गैर छत्तीसगढ़िया का मुद्दा उठाते हुए राज्य सरकार पर जमकर तंज कसा जिसपर छत्तीसगढ़ के पूर्व मंत्री दयालदास बघेल ने कांग्रेस पार्टी व उनके नेताओं व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर निशाना साधते हुए वार किया कि क्या…..???कांग्रेस की नजर में राज्यसभा भेजने के लिए छत्तीसगढ़ का एक भी योग्य उम्मीदवार नहीं जो बाहरी लोगों गैर-छत्तीसगढ़ियों को छत्तीसगढ़ से राज्यसभा भेजा जा रहा है,यह छत्तीसगढ़ के लोगों के साथ छलावा है,उनके हक का हनन है,छत्तीसगढ़ के लोग केवल भौरा,गेड़ी,हरेली-तिहार,पुन्नी-स्नान,तीजा त्योहार मनाने के साथ-साथ सरकार बनाने और बिगाड़ने की भी शक्ति रखते है  सोनिया गांधी,प्रियंका वाड्रा जी,राहुल गांधी जी,मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी,और पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम जी,छत्तीसगढ़ के सीधे-साधे भोले-भाले लोगो को ठगकर छत्तीसगढ़ियावाद का सपना दिखाकर बोरे – बासी खाकर और खिलाकर फेसबुक,सोशल मीडिया और मीडिया में छत्तीसगढ़िया का ढोंग रचने वाले छत्तीसगढ़ के लोगो को ठगने में कोई कसर नई छोड़ा है इधर बेरोजगारों के साथ खिलवाड़ करके नौकरी का झूठा आंकड़ा बताकर प्रदेश में बैनर-पोस्टर में झूठा श्रेय लेने वाले मुख्यमंत्री जी छत्तीसगढ़ के लोग से केवल गोबर उठवाकर रोजगार देने की बात करते है और छत्तीसगढ़ के लोगो के लिए कोई खास कार्ययोजना नई है उल्टा केंद्र से दिया जा रहा प्रधानमंत्री आवास योजना और कई योजनाओं को रोककर छत्तीसगढ़ को पिछड़ा और उपेक्षित कर आज राज्यसभा में बाहरी व्यक्तियों को उम्मीदवार बनाना छत्तीसगढ़ के लोगों का अपमान है छत्तीसगढ़ की योग्यता पर सवाल उठाता है और इसका जवाब देने के लिए छत्तीसगढ़ की जनता है तैयार कांग्रेस पार्टी का इस तरह का दिल्ली से चल रहा रिमोट कन्ट्रोल और छत्तीसगढ़ की उपेक्षा का जवाब देने को जनता बोरे-बासी खाकर तत्पर है क्योंकि गर्मी के दिनों में हर छत्तीसगढ़िया रोज बोरे-बासी खाते रहते है न कि एक दिन के लिए फेसबुक मीडिया के सामने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *