देश दुनिया वॉच

जहांगीरपुरी हिंसा: कोर्ट की निगरानी में,सुप्रीम कोर्ट पहुंचा मामला

18 अप्रैल 2022 | याचिकाकर्ता ने अपनी याचिका में कहा कि ऐसा दूसरी बार है कि जब राजधानी में दंगे हुए हैं। लेकिन इस बार भी केवल अल्पसंख्यकों को ही निशाना बनाया जाएगा।आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस की अब तक की जांच पक्षपाती और दंगों की तैयारी करने वालों को सीधे तौर पर बचाने वाली रही है।

दिल्ली के जहांगीरपुरी में हुई हिंसा का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुका है। कोर्ट में याचिका दायर कर हिंसा की जांच के लिए कमेटी गठित करने की मांग की गई है। याचिकाकर्ता की ओर से अपील की गई है कि हिंसा की जांच के लिए मौजूदा जज की अध्यक्षता में कमेटी गठित कराई जाए और पूरी जांच कमेटी की ही निगरानी में कराई जाए।

वकील अमृतपाल सिंह खालसा ने अपनी याचिका में कहा कि इसी अदालत ने 2020 में दंगे रोकने में विफल रहने पर दिल्ली पुलिस को फटकार लगाई थी। पुलिस की छवि कमजोर हुई है और लोगों का उस पर विश्वास कम हुआ है। याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस की अब तक की जांच पक्षपाती और दंगों की तैयारी करने वालों को सीधे तौर पर बचाने वाली रही है। वकील ने कहा कि ऐसा दूसरी बार है जब राजधानी में दंगे हुए हैं। इस बार भी केवल अल्पसंख्यकों को ही निशाना बनाया जाएगा।

अब तक 21 लोगों की हुई गिरफ्तारी
जहांगीरपुरी इलाके में हनुमान जन्मोत्सव पर शनिवार शाम शोभायात्रा पर पथराव के बाद भड़की हिंसा मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी अंसार समेत 21 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनके अलावा 2 नाबालिग भी पकड़े गए हैं। करीब 21 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। गृह मंत्रालय ने सीआरपीएफ एवं आरएएफ की पांच अतिरिक्त कंपनियां तैनात कर दी हैं। पुलिस ने रविवार को 14 आरोपियों को अदालत में पेश किया, जहां से 12 को जेल भेज दिया, जबकि अंसार और गोली चलाने का आरोपी असलम पुलिस कस्टडी में है। इलाके में फिलहाल तनावपूर्ण शांति का माहौल है। गृह मंत्रालय ने एहतियात के तौर पर सीआरपीएफ और आरएएफ की पांच और कंपनियां भेजी हैं। दिल्ली पुलिस ने पूरे मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी है।

इन लोगों की हुई गिरफ्तारी 
पुलिस ने जहांगीरपुरी निवासी जाहिद , अंसार, शहजाद , सलीम उर्फ चिकना, मुख्तियार अली , आमिर , अकसर , नूर आलम , मोहम्मद असलम ,जाकिर ,अकरम ,इम्तियाज , मोहम्मद अल , आहिर , मोहम्मद अली सेख , शेख सौरभ , सुकेन के पुत्र सूरज  व नीरज , सुकेन , सुरेश  व सुजीत सरकार को गिरफ्तार किया है। दो नाबालिगों को भी पकड़ा गया है। गिरफ्तार आरोपियों में से चार एक ही परिवार के हैं। पुलिस ने असलम व एक आरोपी को पिस्टल समेत दबोचा है। सभी आरोपी जहांगीरपुरी के अलग-अलग ब्लॉक के रहने वाले हैं। आरोपियों के खिलाफ बलवा करने, सरकारी काम में बाधा, ड्यूटी के दौरान हमला, मारपीट, आगजनी, जानलेवा हमला, आपराधिक षड्यंत्र और ऑर्म्स एक्ट का मामला दर्ज किया गया है।

अमन कमेटियों से चल रही बात 
उत्तर-पश्चिम जिला पुलिस उपायुक्त उषा रंगनानी ने बताया कि हिंसा के दौरान पुलिस के आठ जवानों समेत नौ लोग जख्मी हुए थे। इनमें एक एसआई के हाथ में गोली लगी थी। रविवार को कुछ नए वीडियो सामने आए, जिनके आधार पर छानबीन की जा रही है। अमन कमेटियों से बात कर माहौल को शांत करने की कोशिश कर रहे हैं। दिल्ली पुलिस के विशेष आयुक्त दीपेंद्र पाठक (स्पेशल सीपी लॉ एंड ऑर्डर) रविवार को दिनभर मौके पर डटे रहे। उन्होंने बताया कि इलाके में पूरी तरह से शांति है और बलवा करने वालों की तलाश की जा रही है। पुलिस ने 200 से अधिक सीसीटीवी कैमरों की फुटेज और वीडियो को कब्जे में लिया है। इन्हीं वीडियो के आधार पर गिरफ्तारियां की गईं हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *