रायपुर वॉच

रेतखोरी का खेल : पकड़े गए वाहन राजसात किये जायें, मुनाफाखोरी बंद हो – साय

रायपुर। अवैध रेत परिवहन करते पकड़े जा रहे वाहनों को राजसात करने की मांग करते हुए भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा है कि भूपेश बघेल सरकार में तीन साल से चल रहा रेतखोरी का खेल उजागर हो गया है। भाजपा इस सरकार के पहले ही दिन से चल रहे रेतमाफिय़ा के कारोबार के खिलाफ लगातार आवाज उठाती रही, तब सरकार ने कोई कार्रवाई करने की बजाय रेतमाफिय़ा को संरक्षण दिया और तीन साल में प्रदेश के सभी नदी, नालों, रपटों की रेत नोंच खाई। अब अवैध खनन और परिवहन पर सख्ती का दिखावा किया जा रहा है। अवैध खनन पर कोई नकेल कसने की जगह परिवहन कर रहे वाहन पकड़कर वाहवाही लूटने की कोशिश की जा रही है। सरकार ने रेतमाफिय़ा को रेत से मुनाफाखोरी का नया रास्ता दिखा दिया है। रेत लोडिंग के लिए तीन गुनी अधिक रकम वसूली जा रही हैं, यह किसके संरक्षण में हो रहा है? अब तक कांग्रेस कह रही थी कि राज्य में कोई माफिया नहीं है तो क्या रेत के अवैध उत्खनन और परिवहन का काम कांग्रेसी सम्हाल रहे थे। अगर रेत की लूट नहीं चल रही थी तो ये वाहन कैसे पकड़े जा रहे हैं?
साय ने कहा कि भूपेश बघेल सरकार के संरक्षण में सवा तीन साल में रेतमाफिय़ा ने राज्य की सभी छोटी बड़ी नदियों, नालों की रेत खोदकर पुल पुलियों को कमजोर करने के साथ साथ पर्यावरण को भी भारी नुकसान पहुंचा दिया है। नरवा, गरुवा, घुरवा, बाड़ी, अरपा पैरी की धार का गाना गाती सरकार ने नदी नालों की दिशा मोड़ दी। अरपा, पैरी, महानदी सहित सभी नदियों को रेतहीन कर दिया। अब भाजपा के दबाव में पर्यावरण बचाने, रेतखोरी रोकने का नाटक किया जा रहा है। इतने लंबे अरसे से चल रहे रेत के खेल को आखिर किसलिए छूट दी गई? कांग्रेस ने सत्ता में आते ही माफिया राज आबाद कर दिया। रेतमाफिय़ा ने अफसरों पर कई बार हमले किये तब भूपेश बघेल सरकार मदहोश थी। अब उसकी दिखावे की चेतना जागृत हुई है तो इसमें भी मुनाफाखोरी एक बड़ी वजह है। किसानों से ज्यादा धान तौलवाकर यूपी के लिए चुनाव फंड बटोरने वाले क्या अब अवैध रेत परिवहन के खिलाफ तथाकथित सख्ती के नाम पर तिगुने दाम बढ़वाकर चंदा ले रहे हैं?

उन्होंने कहा कि भूपेश बघेल सरकार का यह राजनीतिक चरित्र सबके सामने आ गया है कि चोर से कहो चोरी करो और सिपाही से कहो कि जागते रहो। सरकार के संरक्षण में रेत की चोरी और लूट चल रही है तो सरकारी मुलाजिम भला क्या कर सकते हैं? भूपेश बघेल सरकार रेत के अवैध धंधे के मामले में बेनकाब हो गई है। अब वह रेतमाफिय़ा द्वारा खोखले किये गए तटों पर वृक्षारोपण कराये और रेतमाफिय़ा के वाहनों को राजसात करे। यदि रेतमाफिय़ा के वाहन राजसात नहीं किये गए तो यह भी प्रमाणित हो जायेगा कि बघेल सरकार सख्ती की आड़ में भी अपनी नीति के मुताबिक खेल ही खेल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *