प्रांतीय वॉच

वोटर के अनुपात में टिकट… टिकट बांटने में जातीय समीकरण पर जोर… भिलाई व रिसाली में सबसे ज्यादा प्रत्याशी ओबीसी कोटे से…

जिले की चारों निकायों में से भिलाई और रिसाली में सबसे ज्यादा ओबीसी वर्ग के वोटर्स हैं। चुनावों में दोनों निकायों के उम्मीदवारों की जीत-हार में जाति फैक्टर काफी निर्णायक साबित होने वाला है। इसे ध्यान में रखते हुए भाजपा-कांग्रेस टिकट वितरण में जातिगत समीकरण को ध्यान में रखकर प्रत्याशी तय किए। भिलाई में भाजपा ने ओबीसी वर्ग से 28 प्रत्याशी मैदान में उतारे हैं तो कांग्रेस ने 23 पर दांव खेला है।

इसी तरह रिसाली निगम में कांग्रेस ने 21 और भाजपा ने 19 प्रत्याशी ओबीसी वर्ग से तय किए हैं। दोनों निगम क्षेत्रों में इस वर्ग से सबसे ज्यादा साहू, कुर्मी और यादव वोटर हैं। इसके चलते सामान्य सीटों पर भी दोनों निकायों में ओबीसी वर्ग से ही उम्मीदवार हैं। इसके अलावा बाकी वार्डों में दोनों दलों ने स्थानीय समीकरण को महत्व दिया है। लोकल चेहरों पर भरोसा जताया है।

भिलाई निगम में सामान्य सीटों पर भी जातिगत समीकरण चला
भिलाई के 70 वार्डों में 27 अनारक्षित और महिला सीटों पर कांग्रेस ने 13 ओबीसी वर्ग के उम्मीदवार उतारे हैं। इसमें 2 साहू, तीन कुर्मी, दो देवांगन, तीन चौधरी और यादव वर्ग के लोगों को टिकट दिया है। भाजपा ने 10 सामान्य और महिला सीटों पर ओबीसी वर्ग को मैदान में उतारा है। कुल 28 ओबीसी के उम्मीदवारों में 8 साहू, कुर्मी 3 और 5 यादव समाज से हैं।

बीते चुनाव में सबसे ज्यादा प्रत्याशी ओबीसी वर्ग से जीतकर आए थे
रिसाली निगम क्षेत्र सबसे ज्यादा संख्या साहू, देवांगन और यादव समाज की है। हालांकि वर्ष 2015 में अविभाजित भिलाई निगम में भी इन्हीं वर्ग की संख्या ज्यादा थी और जीतकर सदन में भी इसी वर्ग के उम्मीदवार पहुंचे थे। इसके चलते उस आकंलन और गणित को ध्यान में रखकर दोनों पार्टियों ने लोकल जाति वाले उम्मीदवारों को अपना प्रत्याशी बनाया है।

भिलाई और रिसाली निगम के किन-किन क्षेत्रों में किस वर्ग के वोटर ज्यादा, जानिए

ओबीसी
रिसाली, मरोदा और रूआबांधा में साहू-कुर्मी वोटर ज्यादा।
कोहका, सुपेला और कुरूद क्षेत्र साहू व कुर्मी समेत ओबीसी बाहुल्य है।

सामान्य
खुर्सीपार, कैंप, वैशालीनगर, शांति नगर इलाके
टाउनशिप के ज्यादातर वार्डों के वोटर सामान्य कैटेगरी के।

एससी
राधिका नगर, श्यामनगर, पुरैना में एससी बाहुल्य क्षेत्र है।
कैंप-1, कैंप-2 और खुर्सीपार इलाके के कई वार्ड एससी हैं।

एसटी
टाउनशिप के सेक्टर-6 मध्य, स्टेशन मरोदा और जोरातराई में एसटी बाहुल्य है।
शहर के ग्रामीण वार्ड भी इसमें शामिल है।

रिसाली के वार्डों में दोनों दलों की रणनीति एक
नगर निगम रिसाली के 40 वार्डों में ओबीसी वर्ग के लिए केवल 10 सीटें आरक्षित हैं। इसमें महिला सीट की संख्या 3 है। लेकिन दोनों दलों ने ओबीसी सीटों के अलावा अनारक्षित सीटों पर दावेदार उतारे हैं। कांग्रेस ने 12 सामान्य सीटों पर ओबीसी उम्मीदवार उतारे हैं। इसमें साहू समाज के 4, यादव वर्ग के 3 और कुर्मी समाज के 3 प्रत्याशी शामिल हैं। वहीं भाजपा ने ओबीसी वर्ग के कुल 19 दावेदारों टिकट दिया है। इसमें अनारक्षित 13 सीटों पर साहू समाज के लोगों को 4 और यादव समाज 6 और कुर्मी समाज से 2 को प्रत्याशी बनाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *