देश दुनिया वॉच

‘देवेंद्र फडणवीस के अंडरवर्ल्ड कनेक्शन का फोड़ूंगा हाइड्रोजन बम’ नवाब मलिक के इस वार पर अब BJP ने किया पलटवार

नई दिल्ली : देवेंद्र फडणवीस द्वारा लगाए गए आरोपों के बाद नवाब मलिक ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और देवेंद्र फडणवीस के आरोपों का जवाब दिया. नवाब मलिक ने कहा कि आज तो वे देवेंद्र फडणवीस के आरोपों का जवाब देंगे. लेकिन कल सुबह वे देवेंद्र फडणवीस के साथ अंडरवर्ल्ड के कनेक्शन का खुलासा करेंगे. नवाब मलिक ने कहा, ‘देवेंद्र फडणवीस ने कहा था कि वे पटाखे फोड़ेंगे, लेकिन वे पटाखे फुस्स निकले, भींगे हुए निकले. उनमें आवाज नहीं है. देवेंद्र जी ने आरोप लगाया कि मैंने मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपियों से जमीन खरीदी. मैंने या मेरी कंपनी ने जो भी डील की है. उसके सारे कागजात हैं. आप जिस भी कंपीटेंट अथॉरिटी के पास जाना चाहते हैं, जाएं. मेरे 62 साल के जीवन में आज तक किसी ने अंडरवर्ल्ड से संबंध जोड़ने का साहस नहीं किया है. आपने झूठ का आडंबर खड़ा किया. लेकिन मैं राई का पहाड़ नहीं बनाऊंगा. मैं कल सुबह हाइड्रोजन बम फोड़ूंगा.’

नवाब मलिक ने कहा, ‘ मैंने किसी भी अंडरवर्ल्ड के व्यक्ति से संपत्ति नहीं खरीदी है. मैंने किसी मुंबई बम ब्लास्ट में संलिप्त पाए गए व्यक्ति से कौड़ियों के मोल जमीन नहीं खरीदी. इससे उलट इस शहर में देवेंद्र फडणवीस से जुड़े लोग किस अंतर्राष्ट्रीय डॉ़न के साथ काम कर रहे थे और किनके संरक्षण में यह सब चल रहा था, वह मैं कल बताऊंगा.’ पहले जानते हैं कि नवाब मलिक ने देवेंद्र फडणवीस के किन आरोपों के क्या जवाब दिए. इसके बाद जानेंगे कि नवाब मलिक की सफाई और उनके वार पर बीजेपी विधायक अशिष शेलार (Ashish Shelar, BJP) ने किस तरह पलटवार किया.

नवाब मलिक ने दिए देवेंद्र फडणवीस के इन सवालों के जवाब
देवेंद्र फडणवीस ने आरोप लगाया है कि नवाब मलिक ने दाऊद इब्राहिम की बहन हसीना पारकर के सबसे करीबी शख्स सलीम पटेल और मुंबई ब्लास्ट का आरोपी शाह वली खान से कौ़ड़ियों के मोल जमीन खरीदी है. कुर्ला में साढ़े तीन करोड़ की जमीन की सिर्फ तीस लाख में डील हुई और बीस लाख पेमेंट किए गए. यानी सिर्फ 25 रुपए स्क्वायर फुट में अंडरवर्ल्ड के लोगों से नवाब मलिक और उनके परिवार ने जमीन खरीदी है. फडणवीस ने यह आरोप लगाया कि ऐसी एक-दो नहीं बल्कि कम से कम चार प्रॉपर्टियां नवाब मलिक परिवार द्वारा खरीदी गई हैं जिनका सीधा संबंध अंडरवर्ल्ड के लोगों से है. टाडा के आरोपी से है.

‘ जो जमीन खरीदी वहां सरदार शाह वली खान वॉचमैन था, हम भी उसी कंपाउंड में किराएदार थे’
नवाब मलिक ने कहा, ‘सरदार शाह वली खान का गोवावाला कंपाउंड में घर था. वह गोवावाला कंपाउंड में वॉचमैन की हैसियत से काम करता था.उसने जमीन के कागजात में अपना नाम डलवाया हुआ था. हम उस जमीन के किराएदार थे. हमने सिर्फ इतना किया कि वह जमीन खरीदते वक्त उसका नाम कागजात से हटवाया और इसके लिए उसे पैसे दिए.’

मैं दाऊद इब्राहिम की बहन हसीना पारकर को जानता नहीं, जमीन कानूनी तरीके से खरीदी
नवाब मलिक ने कहा, ‘मैं हसीना पारकर को जानता नहीं. गोववाला कंपाउंड के मालिक ने सलीम पटेल को पॉवर ऑफ अटॉर्नी दी हुई थी. हम वहां पहले से ही किराएदार थे. बाद में हमने वहां मालिकाना हक हासिल किया और पूरी जमीन खरीद ली. सलीम पटेल जमीन का मालिक नहीं था. उसके पास जमीन बेचने के लिए पॉवर ऑफ अटॉर्नी थी. इसलिए हमने सलीम पटेल से जमीन खरीदी. लेकिन कानूनी तरीके से खरीदी. उसी तरह गोवावाला कंपाउंड वाले की जमीन पर शाहवली खान ने वॉचमैन रहते हुए अपना नाम चढ़वाया हुआ था. हमने उसका नाम जमीन के सात बारा के कागजात से हटवाया और नाम हटाने के लिए उसे पैसे दिए.’

‘आपने गांजा बरामद होने का आरोप लगाया था, मेरी बेटी कल आपको कानूनी नोटिस भेजेगी’
नवाब मलिक ने कहा कि, ‘आपने आरोप लगाया था कि मेरे दामाद के घर से गांजा बरामद हुआ था. मेरी बेटी आपके इसके लिए नोटिस भेज रही है. अब आप उसका जवाब दीजिए. ‘

जिसके नाम जमीन है, वो सामने आए, नवाब मलिक के बेटे फराज मलिक ने TV9 को यह बताया
यह जमीन जिसके नाम खरीदी गई है उनका नाम फराज मलिक है. फराज मलिक नवाब मलिक के बेटे हैं. फराज मलिक ने हमारे सहयोगी चैनल TV 9 मराठी को बताया कि, ‘सलीम पटेल उस जमीन का लैंड लॉर्ड था. वहां हम किराएदार थे. हमने जब इस जमीन की मिल्कियत हासिल की तब सलीम पटेल कन्विक्टेड नहीं था. हमने कानूनी प्रक्रिया पूरी करते हुए जमीन हासिल की. यह जमीन 2005 में खरीदी गई है. सलीम पटेल कन्विक्टेड 2008 के बाद हुआ है. उससे पहले वो 1993 बम ब्लास्ट का आरोपी था दोषी करार नहीं दिया गया है.’

‘नवाब मलिक ने देवेंद्र फडणवीस के आरोपों को कबूल लिया’, बीजेपी नेता आशिष शेलार का दावा
इसका जवाब देते हुए बीजेपी विधायक आशिष शेलार ने कहा कि, ‘नवाब मलिक शाह वली खान को उस जमीन में वॉचमैन के तौर पर काम करने वाला बता रहे हैं. एक वॉचमैन की यह हैसियत होती है क्या कि वो एक रुपए खर्च किए बिना जमीन की कागजात पर अपना नाम लिखवा लेगा? नवाब मलिक ने अपने जवाब में यह कबूल कर लिया है कि सलीम पटेल के नाम पावर ऑफ एटॉर्नी था.’

बीजेपी नेता ने नवाब मलिक की सफाई पर कहा, ‘नवाब मलिक खुद को पहले उस जमीन का किराएदार बताते हैं और बाद में उस जमीन के मालिक बन जाते हैं. करोड़ो की जमीन की डील 30 लाख रुपए में करते हैं. 20 लाख रुपए चुकाते हैं. वाह रे नवाबी डील.नवाब मलिक बाकी किराएदारों को मूर्ख समझते हैं क्या? बाकी किराएदार आखिर क्यों अपना हक छोड़ कर आपको लैंड लॉर्ड से जमीन खरीदने के लिए छूट दे देंगे? प्राइम लोकेशन पर वे अपना हक छोड़ कर क्यों चले जाएंगे? नवाबी धंधा, नवाबी मालिक, नवाबी किराएदार,अंडरवर्ल्ड का नवाबी कनेक्शन साफ साबित होता है.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *