देश दुनिया वॉच

सिंघु बॉर्डर पर बवाल, लखबीर के समर्थन में आए किसानों पर लाठीचार्ज, रास्ता बंद

नई दिल्ली : सिंघु बॉर्डर पर हुई लखबीर सिंह की हत्या मामले में अब और ज्यादा बवाल होने वाला है. भारी संख्या में यूपी और उत्तराखंड से किसान सिंघु के लिए रवाना हो चुके हैं. अभी के लिए सभी किसानों को नरेला पर रोक दिया गया है. पुलिस ने हल्का बल प्रयोग करते हुए किसानों को आगे जाने की इजाजत नहीं दी है.

लखबीर के समर्थन में आए किसानों पर लाठीचार्ज

जानकारी के लिए बता दें कि कुछ दिन पहले निहंगों ने बड़ी ही बेरहमी से लखबीर सिंह की हत्या कर दी थी. उसके हाथ-पैर भी काट दिए गए थे. मामले में कई लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है, लेकिन अभी भी ये मामला तूल पकड़ता दिख रहा है. इसी कड़ी में अब यूपी-उत्तराखंड के किसान लखबीर के लिए न्याय की मांग कर रहे हैं. वे सिंघु पर जा अपनी आवाज बुलंद करना चाहते हैं.

लेकिन पुलिस को चिंता है कि दूसरे किसानों का यूं सिंघु बॉर्डर पर पहुंचना टकराव को और ज्यादा बढ़ा सकता है. कई महीनों से किसान सिंघु बॉर्डर पर अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, ऐसे में अब दूसरे राज्यों के किसानों का वहां पहुंचना स्थिति को नियंत्रण से बाहर कर सकता है. ऐसे में अभी के लिए पुलिस ने यूपी-उत्तराखंड से आ रहे किसानों को नरेला पर रोक दिया है. लाठीचार्ज हुआ है, लेकिन पुलिस कह रही है कि स्थिति अब काबू में है.

लखबीर केस में पुलिस कार्रवाई

लखबीर केस की बात करें तो पुलिस ने दो निहंगों को तो गिरफ्तार कर लिया था, वहीं दो ने सरेंडर कर दिया था. ऐसे में कुल चार लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है. लेकिन इस मामले को लेकर अभी भी विवाद जारी है. एक तरफ किसान नेता राकेश टिकैत इसे केंद्र की एक साजिश बता रहे हैं तो वहीं सरकार भी किसान आंदोलन को ‘हिंसक’ बता रही है. वैसे लखबीर की पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी सामने आ चुकी है. बताया गया है कि लखबीर के शरीर पर 36 चोट के निशान थे, उसे काफी बेरहमी से पीटा गया था.

अभी के लिए संयुक्त किसान मोर्चा ने खुद को इस विवाद से पूरी तरह दूर रखा है. वे निहंगों को भी अपने किसान आंदोलन का हिस्सा नहीं मान रहे हैं. लेकिन लखबीर के न्याय के लिए चुनावी रण बने उत्तराखंड और यूपी से किसान आना शुरू हो गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *