क्राइम वॉच

मां-बेटी की हत्या का मामला: प्रेमी और भतीजी पर संदेह करने लगी थी आरोपित महिला

जबलपुर। वार्ड क्रमांक-15 बरेला निवासी मां-बेटी की हत्या में गिरफ्तार तीन आरोपितों को पुलिस ने कोर्ट के निर्देश पर जेल भेज दिया है। प्रकरण में फरार चौथे आरोपित की तलाश में संभावित ठिकानों पर दबिश दी जा रही है। इधर, प्रकरण की विवेचना की जिम्मेदारी अजाक डीएसपी सुशील चौहान को सौंपी गई है। विदित हो कि बरेला निवासी बबली झारिया तथा उसकी बेटी निशा की गला घोंटकर हत्या करने के बाद शवों को नहर के किनारे झाडि़यों में दफन कर दिया गया था।

प्रकरण में संजय उर्फ संजू श्रीपाल निवासी काशी महगवां बरेला, महिला आरोपिपत निवासी वार्ड क्रमांक 15 बरेला तथा राजा कोल निवासी कोसमघाट को गिरफ्तार कर लिया गया था। जबकि बिलहरी निवासी देवा ठाकुर की तलाश की जा रही है। जान गंवाने वाली बबली आरोपित महिला की जेठानी तथा निशा भतीजी थी। गमगीन माहौल में दोनों के शवों का अंतिम संस्कार कराया गया। सुरक्षा के लिहाज से बरेला में पुलिस की सतर्कता बढ़ा दी गई है। डीएसपी ग्रामीण अपूर्वा किलेदार ने कहा कि फरार आरोपित को जल्द पकड़ लिया जाएगा।

भतीजी का मोबाइल छीन लेती थी: पुलिस की पूछताछ में यह जानकारी सामने आई कि आरोपित महिला अपने प्रेमी संजू व भतीजी निशा पर संदेह करने लगी थी। दरअसल, निशा की शादी तय हो गई थी। वह खाली समय में अपने मंगेतर से मोबाइल पर बात करती थी। निशा को मोबाइल पर चर्चा करते देख मालती को संदेह होता था कि वह संजू से बातचीत में व्यस्त है। पुलिस की पूछताछ में मालती ने बताया कि निशा जब अपने मंगेतर से बात करती थी, तो उस समय अक्सर संजू का मोबाइल व्यस्त मिलता था। जिससे उसका संदेह दोनों पर बढ़ने लगा था। सच्चाई जानने के लिए वह निशा का मोबाइल छीन लेती थी। हर बार यही सामने आया कि निशा अपने मंगेतर से बात करती थी।

यह है मामला: बरेला निवासी बबली आंगनबाड़ी सहायिका थी। वर्षों पूर्व पति की मौत के बाद वह अपनी इकलौती बेटी निशा को पालन पोषण कर रही थी। बबली का देवर कामकाज के सिलसिले में अक्सर मंडला में रहता था। जबकि देवरानी मालती अपनी तीन मासूम बेटियों के साथ घर पर रहती थी। इस बीच मालती और संजू श्रीपाल के बीच प्रेम संबंध बन गए। संजू जब घर तक पहुंचने लगा तो बबली ने दोनों के संबंधों पर आपत्ति जताई। आरोपित महिला ने संजू के साथ मिलकर जेठानी बबली व उसकी बेटी निशा को हमेशा के लिए रास्ते से हटाने की योजना बनाई। 27 सितंबर की रात संजू ने अपने दोस्तों राजा कोल व देवा ठाकुर के साथ मिलकर बबली व निशा की उसी के घर में गला घोंटकर हत्या कर दी। दोनों के शवों को काशी महगवां में नहर के किनारे दफन कर दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *