रायपुर वॉच

छत्तीसगढ़ में जलभराव को लेकर CM भूपेश ने कहा- बारिश को रोक नहीं सकते, इसलिए लोग अभी यात्रा न करें, जहां हैं वहीं रहें

रायपुर। छत्तीसगढ़ में बीते कुछ दिनों से मूसलाधार बारिश हो रही है. जिस कारण करीब सभी जिलों में जलभराव की स्थिति पैदा हो गई है. नदी-नाले ऊफान पर हैं. आवागमन बाधित हो गया है. राजधानी रायपुर में भी जलभराव के चलते जनजीवन अस्त-व्यस्त है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि जहां तेज बारिश होगी, उसे रोका नहीं जा सकता है. इसके लिए सिस्टम काम नहीं करता है. इसलिए लोग अभी यात्रा न करें. जहां है वहां ही रहें. क्योंकि अभी ज्यादा बारिश हो रही है. जिम्मेदार अधिकारी और जनप्रतिनिधि है, वो जलभराव की स्थिति को देख रहे हैं.

दरअसल प्रदेश में पिछले कई दिनों से तेज बारिश हो रही है. जिलों में भारी बारिश की वजह से शहरें जलमग्न हो गई हैं. चारों तरफ पानी ही पानी नजर आ रहा है. गरियाबंद जिले के छोटे नदी नालों से लेकर पैरी और सोंढूर जैसी बड़ी नदियां उफान पर हैं. सिकासार बांध पूरी तरह लबालब हो गया है. मौसम विभाग ने भी अलर्ट जारी कर रखा है.

राजधानी रायपुर में भी एक अदभुत नजारा देखने को मिला. पुरानी बस्ती स्थित महामाया मंदिर में जलभराव की स्थिति निर्मित हो गई. महामाया मंदिर प्रांगण के समलेश्वरी देवी के मंदिर में भी पानी भर गया है. ये पहली बार है, जब ऐसा नजारा मंदिर प्रांगण में देखने को मिला है. इसके अलावा कई इलाके जलमग्न हो गए हैं.

धमतरी जिले के अर्जुनी थाना में भी बारिश का पानी घुस गया है. यहां भी बीती रात से लगातार तेज बारिश हो रही है. सड़कों पर जलभराव के बाद थाने में बारिश का पानी घुस गया है. थाने में घुटनों तक पानी भर गया है, जिसके बाद पुलिस कर्मचारी थाने का सामान सुरक्षित रखने में जुटे हुए हैं. जिले के कई इलाके में पानी भरा हुआ है.

गरियाबंद जिले के घटारानी जलप्रपात भी इन दिनों पूरे शबाब पर है. पिछले दो दिनों से अंचल सहित क्षेत्र में दिन रात हो रही लगातार बारिश के चलते मां घटारानी का जलप्रपात लोगों को मंत्र मुग्ध कर आकर्षित कर रहा है. यहां पहाड़ों से होकर गिरने वाली तेज धार की शक्ल झरने में तब्दील हो गया है. जो अब लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गया है. यही वजह है कि अंचल सहित प्रदेश भर के दूर-दराज से लोग धार्मिक स्थल माँ घटारानी के दर्शन के साथ प्राकृतिक सौंदर्य का लुत्फ उठाने यहां पहुँच रहे हैं.

बता दें कि मौसम विभाग ने 14 सितंबर के लिए भी चेतावनी जारी किया है. छत्तीसगढ़ (chhattisgarh) के अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने और गरज चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है. प्रदेश के बिलासपुर संभाग और उससे लगे सरगुजा, दुर्ग और रायपुर संभाग के जिलों में भारी वर्षा होने की प्रबल संभावना है. प्रदेश में अधिकतम तापमान में विशेष परिवर्तन होने की संभावना नहीं है.

15 सितंबर को छत्तीसगढ़ के अनेक स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने और गरज चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है. प्रदेश के बिलासपुर संभाग के पूर्वी मध्यप्रदेश से लगे जिलों में और सरगुजा संभाग के कुछ जिलों में एक दो स्थानों पर भारी वर्षा होने की प्रबल संभावना है. प्रदेश में अधिकतम तापमान में विशेष परिवर्तन होने की संभावना नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *